May 21, 2024
  • होम
  • Fake Airbags: धड़ल्ले से चल रहा फेक एयरबैग्स का खेल, इन बड़ी कम्पनीयों के नाम पर फर्जीवाड़ा

Fake Airbags: धड़ल्ले से चल रहा फेक एयरबैग्स का खेल, इन बड़ी कम्पनीयों के नाम पर फर्जीवाड़ा

नई दिल्ली: कारों में दिया जाने वाला एयरबैग यात्रियों की सुरक्षा के लिए बेहद अहम फीचर है. न सिर्फ कार कंपनियां बल्कि सरकार भी यात्रियों की सुरक्षा के लिए कई प्रयास कर रही है. चाहे कारों में दिए जाने वाले सेफ्टी फीचर्स हों या फिर सड़क पर ट्रैफिक नियम.

लेकिन कुछ लोग ऐसे भी हैं जो लोगों की जिंदगी से खिलवाड़ करने से बाज नहीं आ रहे हैं. दरअसल, दिल्ली पुलिस ने हाल ही में एक ऐसे गिरोह को गिरफ्तार किया है जो अवैध रूप से नकली एयरबैग का निर्माण और बिक्री कर रहे थे. यह गैंग पिछले 4 साल से दिल्ली में रहकर मारुति सुजुकी और बीएमडब्ल्यू समेत कई बड़े ब्रांड के नाम पर नकली एयरबैग बना रहा था. फिलहाल पुलिस ने इस गिरोह के 3 सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया है. दिल्ली पुलिस ने छापेमारी में करीब 1.84 करोड़ रुपये कीमत के 921 काउंटर फिटेड एयरबैग भी जब्त किए हैं.

पुलिस ने क्या कहा?

पुलिस ने अपने बयान में कहा कि सेंट्रल दिल्ली में माता सुंदरी रोड के पास एक वर्कशॉप में छापेमारी की गई. जहां यह गिरोह भारत में बिकने वाले लगभग सभी ब्रांड के नकली एयरबैग बना रहा था. छापेमारी के दौरान पुलिस को मारुति सुजुकी, फॉक्सवैगन, बीएमडब्ल्यू, सिट्रोएन, निसान, रेनॉल्ट, महिंद्रा, टोयोटा, होंडा, टाटा मोटर्स, फोर्ड, किआ, सुजुकी, हुंडई और वोल्वो समेत 16 ब्रांडों के एयरबैग मिले.

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी का कहना है कि यह गिरोह पिछले 3-4 साल से काउंटर-फिट एयरबैग बना रहा था. उनके पास इन एयरबैग के निर्माण का अधिकार नहीं था. इस मामले में पुलिस इन वाहन निर्माता कंपनियों से भी संपर्क में है ताकि यह सत्यापित किया जा सके कि ये एयरबैग मानक नियमों के अनुसार बनाए गए हैं या नहीं.

नकली एयरबैग को कैसे पहचानें?

आमतौर पर आप कार में लगे एयरबैग को ऊपर से देखकर पहचान नहीं सकते. हां, कुछ बिंदु ऐसे हैं जिनकी सावधानीपूर्वक जांच की जा सकती है।

. यूनिक पार्ट नंबर

. एयरबैग की क्वॉलिटी

. टेंपरिंग और डैमेज

Tags

विज्ञापन

शॉर्ट वीडियो

विज्ञापन