May 21, 2024
  • होम
  • Kejriwal: इन्सुलिन की मांग को लेकर केजरीवाल ने जेल प्रशासन को लिखी चिट्ठी,बोले मेरा शुगर लेवल हाई

Kejriwal: इन्सुलिन की मांग को लेकर केजरीवाल ने जेल प्रशासन को लिखी चिट्ठी,बोले मेरा शुगर लेवल हाई

  • WRITTEN BY: Mohd Waseeque
  • LAST UPDATED : April 22, 2024, 5:54 pm IST

नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी के सूत्रों के मुताबिक दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Kejriwal) ने तिहाड़ जेल सुपरिटेंडेंट को चिट्ठी लिखी है. सुपरिटेंडेंट को लिखी गई इस चिट्ठी में केजरीवाल ने लिखा है कि अखबार में आपके बयान को मैंने पढ़ा. वो बयान गलत है. आपके इस झूठे बयान को पढ़कर मुझे बहुत दुख हुआ है. दिल्ली की तिहाड़ जेल प्रशासन का पहला बयान ‘अरविंद केजरीवाल ने इंसुलिन का मुद्दा कभी नहीं उठाया’…यह सरासर झूठ है. पिछले 10 दिनों से लगातार मैं इंसुलिन का मुद्दा उठा रहा हूं, दिन में कई बार यह मुद्धा मैने उठाया है.जेल में जब भी डॉक्टर मुझे देखने आएं तो मैंने उन्हें बताया कि मेरा शुगर लेवल बहुत ज्यादा हाई है. उन्हें मैंने ग्लूको-मीटर की रीडिंग को दिखा कर बताया कि दिन में 3 बार इसकी पीक आती है और शुगर लेवल 250-320 के बीच चला जाता है. मैंने बताया कि मेरेफास्टिंग का शुगर लेवल रोज़ 160-200 पर है. मैंने हाई सुगर लेवल की वजह से रोज़ इंसुलिन की मांग की है. जिसके बाद भी आप यह झूठा बयान कैसे दे सकते हैं कि केजरीवाल ने कभी इंसुलिन की मांग नहीं की.

राजनीतिक दबाव में बोला गया झूठ

तिहाड़ जेल प्रशासन का दूसरा बयान: जिसमें ऐम्स के डॉक्टर की तरफ से केजरीवाल (Kejriwal) के शुगर को लेकर अश्वस्त किया गया है और कहा गया है कि कोई चिंता की बात नहीं है यह भी सरासर झुठ है. केजरीवाल ने कहा कि एम्स के डॉक्टर की तरफ से ऐसा कोई अश्वासन नहीं दिया गया एम्स ने मेरे शुगर लेवल का पूरा डाटा मांगा जिसमें उन्होंने कहा कि वह डाटा देखने के बाद जांच पड़ताल के बाद ही अपनी राय उस पर देंगें, केजरीवाल ने जेल के सुपरिंटेंडेंट को कहा कि मुझे बहुत दुख हो रहा है कि आपने राजनीतिक दबाव में आकर झूठे और गलत ब्यान दिए हैं. केजरीवाल ने कहा कि मैं उम्मीद करता हूं कि आप संविधान और कानून का पालन करेंगे.

केजरीवाल ने की थी इन्सुलिन देने की मांग

दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल (Kejriwal) ने शुक्रवार 19 अप्रैल को एक नई याचिका दाखिल कर हर दिन 15 मिनट अपने चिकित्सक से परामर्श लेने और जेल में इंसुलिन देने की मांग रखी थी. मंत्री आतिशी ने संवाददाताओं को संबोधित करते हुए कहा, ”ईडी ने अदालत में झूठ बोला और कहा कि एम्स के डॉक्टरों से परामर्श किया गया है जिसमें कहा गया है कि केजरीवाल को इंसुलिन की जरुरत नहीं है. उन्होंने केजरीवाल के लिए एक खाने का मेन्यू भी तैयार किया है.”

फूड स्पेशलिस्ट ने तैयार किया खाने का मेन्यू

उन्होंने कहा, ”हालांकि, खाने का मेन्यू किसी शुगर विशेषज्ञ द्वारा नहीं बल्कि एक फूड स्फेशलिस्ट के द्वारा तैयार किया गया है. हम सभी जानते हैं कि फूड स्फेशलिस्ट एमबीबीएस डॉक्टर नहीं होते. उस खाने के मेन्यू के आधार पर वे (जेल प्रशासन) अदालत में कहते रहे हैं कि केजरीवाल (Kejriwal) को इंसुलिन की जरूरत नहीं है.”

वीडियो कॉल से एम्स के डॉक्टर ने दी परामर्श

तिहाड़ जेल के अधिकारियों ने बताया कि जेल प्रशासन ने शनिवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये एम्स के वरिष्ठ विशेषज्ञ से केजरीवाल को परामर्श उपलब्ध कराया जिसमें केजरीवाल ने विशेषज्ञों से कॉल के दौरान इंसुलिन का मुद्दा न तो केजरीवाल ने उठाया और न ही चिकित्सकों ने इसका सुझाव दिया.

एम्स के डॉक्टर ने केजरीवाल को किया अश्वस्त

तिहाड़ जेल के एक अधिकारी ने कहा कि, ”40 मिनट के व्यापक परामर्श के बाद केजरीवाल को आश्वस्त किया गया कि चिंता की कोई बात नहीं है और उन्हें अपनी दवाइयां जारी रखने को कहा गया है, जिनकी नियमित रूप से समीक्षा की जाएगी.

ये भी पढ़ें- Arvind Kejriwal: अरविंद केजरीवाल पर संकट गहराया, ईडी दायर करेगी चार्जशीट

Tags

विज्ञापन

शॉर्ट वीडियो

विज्ञापन