मध्य प्रदेश: निलंबित के बाद से लापता हुआ वन रक्षक, वायरल हुई चिट्ठी

भोपाल: इंटरनेट पर ‘सुसाइट नोट’ वायरल करने के बाद से ही मध्य प्रदेश के सीहोर जिले का एक वनरक्षक गुम हैं. शाहगंज थाना में वनरक्षक की पत्नी ने पति की गुमशुदगी होने की शिकायत दर्ज कराई है. वहीं वनरक्षक के गुम होने के बारे में सीहोर डीएफओ एमएस डाबर ने पुलिस अधीक्षक मयंक अवस्थी को जानकारी दी है। बताया जा रहा है कि वनरक्षक को 24 मई को निलंबित किया था और 27 मई से गायब हैं।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक सीहोर डीएफओ एमएस डाबर ने पुलिस अधीक्षक मयंक अवस्थी को बताया कि व्हाट्सऐप ग्रुप में वन रक्षक काशीराम अहिरवार बीटगार्ड डुंगरिया ने सुसाइट नोट भेजा था और वन रक्षक काशीराम 27 मई से लापता है। इस संबंध में परिवार और उनकी पत्नी से संपर्क की गई, लेकिन उनकी पत्नी ने भी उनके बारे में लापता होने की बात कही और उनके बारे में कोई जानकारी ना होने की बताई है. इसके बाद वन रक्षक काशीराम के मोबाइल नंबर पर उसने फोन लगाया, लेकिन वन रक्षक काशीराम के दोनों मोबाइल नंबर स्विच ऑफ आ रहे हैं. वहीं परिक्षेत्र सहायक शाहगंज में इसको लेकर एक पत्र भेजा गया है. वहीं वन रक्षक काशीराम की पत्नी शीला अहिरवार ने 28 मई को थाना शाहगंज में पति के गुमशुदगी होने की शिकायत दर्ज कराई है।

वन रक्षक ने मानसिक प्रताड़ना का लगाया आरोप

बता दें कि वन रक्षक काशीराम ने सुसाइट नोट लिखकर व्हाटसप ग्रुप में डाल दिया था. वन रक्षक काशीराम ने सुसाइट नोट में लिखा था कि मुन्ना महाराज के लिए डिप्टी रेंजर अवध नारायण ने पहाड़ी से मुरम की खुदाई करवा रहे हैं. काशीराम ने आगे ये भी लिखा था कि डिप्टी रेंजर अवध नारायण ने इससे मिले पैसे 3 एकड़ जमीन भी खरीदी है. काशीराम ने लिखा है कि इस खनन को रोकने का प्रयास किया तो मुझे निलंबित करा दिया।

ये भी जरूर पढ़ें-

Adipurush Poster: ‘आदिपुरुष’ के नए पोस्टर में राम, सीता और लक्ष्मण के लुक पर उठे सवाल

2024 लोकसभा चुनाव में विपक्ष की भूमिका पर ममता बनर्जी का बड़ा बयान-” सबको एक होना होगा “

Latest news