भारत के लिए बड़ी सफलता, UN के प्रस्ताव में पहली बार हिंदी को बढ़ावा देने का जिक्र

नई दिल्ली। बहुभाषावाद पर भारत का प्रस्ताव संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा पारित किया गया है। संयुक्त राष्ट्र संघ ने हिन्दी को अपनी भाषाओं में शामिल किया है। संकल्प में पहली बार संयुक्त राष्ट्र के कामकाज में हिंदी और अन्य भाषाओं को बढ़ावा देने का उल्लेख है। आइए जानते हैं इसका क्या मतलब है और यह भारत के लिए कितनी बड़ी सफलता है?

पहले यूएनजीए की आधिकारिक भाषाएं जानें

संयुक्त राष्ट्र महासभा की छह आधिकारिक भाषाएं हैं। इनमें अरबी, चीनी (मंदारिन), अंग्रेजी, फ्रेंच, रूसी और स्पेनिश शामिल हैं। इसके अलावा, अंग्रेजी और फ्रेंच संयुक्त राष्ट्र सचिवालय की कामकाजी भाषाएं हैं। लेकिन, अब इसमें हिंदी को भी शामिल कर लिया गया है। इसका साफ मतलब है कि संयुक्त राष्ट्र के कामकाज, उसके उद्देश्यों की जानकारी अब संयुक्त राष्ट्र की वेबसाइट पर हिंदी में उपलब्ध होगी।

क्या है संयुक्त राष्ट्र का बहुभाषावाद प्रस्ताव

यूएनएससी ने 1 फरवरी, 1946 को अपने पहले सत्र में एक प्रस्ताव पारित किया। संकल्प 13(1) के तहत, संयुक्त राष्ट्र ने कहा, संयुक्त राष्ट्र अपने उद्देश्यों को तब तक हासिल नहीं कर सकता जब तक कि दुनिया के लोग इसके उद्देश्यों और गतिविधियों से पूरी तरह अवगत न हों। भारत कई वर्षों से बहुभाषावाद पर संयुक्त राष्ट्र में हिंदी को मान्यता दिलाने की कोशिश कर रहा है। इसी क्रम में भारत की ओर से एक प्रस्ताव पेश किया गया। इसे प्रस्तुत करते हुए पहली बार संयुक्त राष्ट्र के कामकाज में हिंदी और अन्य भाषाओं के प्रचार का उल्लेख किया गया है। शुक्रवार को पारित प्रस्ताव में कहा गया है कि संयुक्त राष्ट्र हिंदी सहित आधिकारिक और गैर-आधिकारिक भाषाओं में महत्वपूर्ण संचार और संदेशों के प्रसार को जारी रखने के लिए प्रोत्साहित करता है। इस वर्ष पहली बार प्रस्ताव में हिंदी भाषा का उल्लेख किया गया है। इस संकल्प में पहली बार बांग्ला और उर्दू का भी उल्लेख किया गया है।

 हिंदी के लिए आठ लाख अमेरिकी डॉलर दिए थे

भारत सरकार हिंदी को बढ़ावा देने के लिए लंबे समय से प्रयास कर रही है। कई हिंदी सम्मेलनों में संयुक्त राष्ट्र में हिंदी को आधिकारिक मान्यता देने की मांग की गई है। इन सबके बीच पिछले महीने ही भारत सरकार की ओर से संयुक्त राष्ट्र में हिंदी भाषा के प्रयोग को बढ़ावा देने के लिए आठ लाख अमेरिकी डॉलर दिए गए थे। भारत के स्थायी मिशन की ओर से ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी गई।

‘हिंदी@यूएन’ क्या है?

संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि टीएस तिरुमूर्ति ने बताया कि संयुक्त राष्ट्र में हिंदी को बढ़ावा देने के लिए 2018 में ‘हिंदी @ यूएन’ परियोजना शुरू की गई थी। इसका उद्देश्य हिंदी में संयुक्त राष्ट्र की सार्वजनिक सूचना के वितरण को बढ़ावा देना और दुनिया भर में लाखों हिंदी भाषी लोगों के बीच वैश्विक मुद्दों के बारे में अधिक जागरूकता लाना है। मिशन के तहत, भारत 2018 से संयुक्त राष्ट्र के वैश्विक संचार विभाग (डीजीसी) के साथ साझेदारी कर रहा है। संयुक्त राष्ट्र संयुक्त राष्ट्र के समाचार और मल्टीमीडिया सामग्री को हिंदी में प्रसारित करने और मुख्यधारा में लाने के लिए अतिरिक्त धन दे रहा है।

26 करोड़ से अधिक लोग हिंदी बोलते हैं

हिन्दी विश्व की प्रमुख भाषाओं में से एक है। दुनिया भर में 26 करोड़ से ज्यादा लोग हिंदी बोलते हैं। भारत के अलावा, नेपाल, मॉरीशस, फिजी, गुयाना, सूरीनाम में भी हिंदी बोली जाती है। इसके अलावा अमेरिका, जर्मनी, सिंगापुर, न्यूजीलैंड में भी हिंदी भाषी हैं।

ये भी पढ़े-

India Presidential Election: जानिए राष्ट्रपति चुनाव से जुड़ी ये 5 जरुरी बातें

Latest news