उमेश पाल अपहरण केस: अतीक अहमद, दिनेश पासी और शौलत हनीफ दोषी करार, अशरफ समेत 7 आरोपी बरी

प्रयागराज। उत्तर प्रदेश के प्रयागराज की MP-MLA कोर्ट ने 17 साल पुराने उमेश पाल अपहरण मामले में माफिया अतीक अहमद समेत 3 आरोपियों को दोषी करार दिया है। वहीं, अतीक के भाई अशरफ समेत 7 आरोपियों को बरी कर दिया गया है। बता दें कि, जिन तीन आरोपियों को इस मामले में दोषी ठहराया गया है, उनमें अतीक अहमद, दिनेश पासी खान, शौलत हनीफ शामिल हैं। इन्हें 364a, 34, 120, 341, 342,504,506 की धाराओं में दोषी ठहराया गया है। बताया जा रहा है कि अभी कुछ ही देर में कोर्ट इस मामले में सजा सुनाएगी।

17 साल पुराने मामले में दोषी करार

बता दें कि 25 जनवरी 2005 को बसपा विधायक राजू पाल की दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इस हत्याकांड में अतीक अहमद, उसका भाई अशरफ अहमद और 5 अन्य नामजद थे। इसके साथ ही 4 अज्ञात को भी आरोपी बनाया गया था। इस केस में राजू पाल के रिश्तेदार उमेश पाल मुख्य गवाह थे। जिनका बाद में 28 फरवरी को अपहरण हुआ था। इसका भी आरोप अतीक और उसके साथियों पर लगा। उमेश ने आरोप लगाया था कि अतीक ने उसके साथ मारपीट और जान से मारने की धमकी भी दी।

गवाही से पीछे हटने को कह रहा था

उमेश पाल ने आरोप लगाया था कि अतीक उससे राजू पाल हत्याकांड में गवाही से पीछे हटने को कह रहा था, जब उसने इससे इनकार किया तो 28 फरवरी 2006 को उसका बंदूक की नोंक पर अपहरण कर लिया गया, इसके एक साल बाद उमेश की शिकायत पर पुलिस ने 5 जुलाई 2007 को अतीक, उसके भाई अशरफ और 4 अन्य के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी। प्रयागराज की एमपी-एमएलए कोर्ट में सुनवाई पूरी होने के बाद इसी महीने 17 मार्च को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। एमपी-एमएलए कोर्टे के जज डीसी शुक्ला ने 28 मार्च को अतीक को कोर्ट में पेश करने का आदेश जारी किया था।

24 फरवरी को उमेश की भी हुई हत्या

बीते महीने 24 फरवरी को प्रयागराज में राजूपाल हत्याकांड के गवाह रहे उमेश पाल की हत्या कर दी गई। उमेश जब अपने घर जा रहे थे, उसी दौरान गली के बाहर कार से निकलते वक्त उनके ऊपर शूटरों ने फायरिंग कर दी थी। इस दौरान उमेश के साथ ही उनके दो गनर्स की भी मौत हो गई थी। इस हत्याकांड में उमेश की पत्नी ने अतीक, उसके भाई अशरफ सहित 9 लोगों पर केस दर्ज कराया। प्रयागराज पुलिस इस मामले में अतीक के बेटे असद सहित 5 शूटरों की तलाश कर रही है।

प्रयागराज लाया गया अतीक-अशरफ

गौरतलब है कि, उमेश पाल अपहरण केस में अदालत में पेशी के लिए सोमवार को अतीक अहमद और उसके भाई अशरफ को प्रयागराज की नैनी जेल लाया गया। इससे पहले अतीक साल 2019 से गुजरात की साबरमती जेल में बंद था, वहीं अशरफ यूपी की ही बरेली जेल में बंद था। अतीक अहमद और अशरफ अहमद को नैनी जेल के अलग-अलग कोने पर बने हाई सिक्योरिटी बैरक में आइसोलेशन सेल में रखा गया है। दोनों के बैरक की सीसीटीवी कैमरों से निगरानी की जा रही है।

ये भी पढ़ें-

कारगिल युद्ध के साजिशकर्ता थे मुशर्रफ, 1965 में भारत के खिलाफ लड़े थे युद्ध

Parvez Musharraf: जानिए क्या है मुशर्रफ-धोनी कनेक्शन, लोग क्यों करते हैं याद

Latest news

spot_img