April 22, 2024
  • होम
  • भूकंप से तबाह तुर्की के लिए भारत ने बढ़ाए मदद के हाथ, डॉक्टरों के साथ भेजी NDRF की टीमें

भूकंप से तबाह तुर्की के लिए भारत ने बढ़ाए मदद के हाथ, डॉक्टरों के साथ भेजी NDRF की टीमें

  • WRITTEN BY: Vaibhav Mishra
  • LAST UPDATED : February 7, 2023, 9:18 am IST

नई दिल्ली। तुर्की सीरिया में विनाशकारी भूकंप से भारी तबाही हुई है। दोनों देशों में अब तक 4000 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। बड़े-बड़े शहर खंडहर में तब्दील हो चुके हैं। इस मुश्किल घड़ी में दुनिया के कई देशों ने तुर्की और सीरिया को मदद की पेशकश की है। भारत ने भी तुर्की के लिए मदद भेजी है। राहत और बचाव के लिए डॉक्टरों के साथ 100 कर्मियों वाली एनडीआरएफ की दो टीमें तुर्की के लिए रवाना हो गई हैं।

Image

हर संभव सहायता देने के लिए तैयार- PM मोदी

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर तुर्की में आए भूकंप पर दुख जताया है। उन्होंने लिखा है कि तुर्की में भूकंप के कारण जनहानि और संपत्ति के नुकसान से व्यथित हूं। शोक संतप्त परिवारों के प्रति मेरी संवेदनाएं हैं। भारत तुर्की के लोगों के साथ एकजुटता के साथ खड़ा है। इस त्रासदी से निपटने के लिए हम तुर्की को हर संभव सहायता देने के लिए तैयार हैं।

इन शहरों में भूकंप से हुई सबसे ज्यादा तबाही

बता दें कि इस शक्तिशाली भूकंप से तुर्की के अंकारा, गाजियांटेप, कहरामनमारस, डियर्बकिर और नूरदगी शहर समेत 10 शहरों में भारी तबाही हुई है। खबरों के मुताबिक तुर्की में 2000 से ज्यादा बिल्डिंग गिरी है। कई लोग अभी मलबे के नीचे दबे हैं। फिलहाल लोगों को बचाने के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है।

तुर्की के गाजियांटेप शहर में था भूकंप का केंद्र

गौरतलब है कि इस भूकंप का केंद्र भूकंप का केंद्र तुर्की के कहरामनमारस प्रांत के गाजियांटेप शहर से 30 किमी दूर और जमीन से करीब 24 किमी नीचे था। यह शहर सीरिया बॉर्डर से करीब 90 किलोमीटर दूर है। इसी वजह से सीरिया में भी भूकंप से काफी तबाही हुई है। सीरिया के दमिश्क, अलेप्पो, हमा, लताकिया समेत कई शहरों में भूकंप की वजह से इमारतें गिरने की खबर है।

कारगिल युद्ध के साजिशकर्ता थे मुशर्रफ, 1965 में भारत के खिलाफ लड़े थे युद्ध

Parvez Musharraf: जानिए क्या है मुशर्रफ-धोनी कनेक्शन, लोग क्यों करते हैं याद

Tags

विज्ञापन

शॉर्ट वीडियो