June 15, 2024
  • होम
  • क्या खालिस्तान का था पाकिस्तानी कनेक्शन, जानें इनसाइड स्टोरी

क्या खालिस्तान का था पाकिस्तानी कनेक्शन, जानें इनसाइड स्टोरी

  • WRITTEN BY: Amisha Singh
  • LAST UPDATED : April 24, 2023, 3:05 pm IST

चंडीगढ़: खालिस्तान समर्थक अमृतपाल सिंह अब पुलिस हिरासत में है और अमृतपाल 18 मार्च से फरार चल रहा था। अमृतपाल खुद को जनरल सिंह भिंडरांवाले के जैसा मानता था। 1980 के दशक में भिंडरावाले खालिस्तानी आंदोलन का प्रमुख चेहरा बन गया। अमृतपाल भी उसी ढर्रे पर चल रहा था। 1984 में ऑपरेशन ब्लू स्टार के बाद जरनैल सिंह भिंडरांवाले और खालिस्तान के बारे में दुनिया को पता चला लेकिन आज भी बहुत कम लोग जानते हैं कि खालिस्तान सबसे पहले कब और किसने बोला था।

 

➨ “खालिस्तान” का मतलब जानें

आपकी जानकारी के लिए बता दें, खालिस्तान शब्द भारत के लिए नया नहीं है। हाल के दशकों में इस खालिस्तान की माँग को लेकर देश में हिंसा हुई है। ऑपरेशन ब्लूस्टार के रूप में एक दुखद घटना घटी। देश-विदेश में रहते हुए भी यह शब्द चर्चा में रहता है। खालिस्तान का मतलब क्या है? आपने कई बार सुना होगा: यह घी ‘खालिस घी’ है, यह लट्टे ‘खालिस दूध’ है। यानी शुद्ध घी है, शुद्ध दूध है। तो इसी प्रकार खालिस्तान का शाब्दिक अर्थ है : शुद्ध या शुद्ध स्थान…. क्या हुआ…? चौंक गए न.. लेकिन यही हकीकत है।

➨ “खालिस्तान” शब्द नया नहीं

आपको बता दें, इस शुद्ध जगह को एक अलग राष्ट्र बनाने की दिशा में जो प्रयास किए गए हैं, उन्हें खालिस्तान आंदोलन कहा जाता है। खालिस्तान आंदोलन उन राष्ट्रवादी सिखों का आंदोलन है जो पंजाब के रूप में एक अलग राष्ट्र चाहते थे या चाहते है। अलग राष्ट्र यानी सिखों का अलग राष्ट्र। कहा जाता है कि पंजाब में कई रियासतें थीं। यदि वे अलग रहते तो मुगलों द्वारा उनका दमन कर दिया जाता। इसलिए वे सभी अलग-अलग मिस्लों में संगठित थे।

 

आप इन MISLs को आज के यूरोपीय संघ या राष्ट्रमंडल राष्ट्रों के रूप में सोच सकते हैं। सिख मिस्ल ने 1767 से 1799 तक पूरे पंजाब पर शासन किया। महाराजा रणजीत सिंह (1780-1839), जिन्होंने हरमिंदर साहिब को सोने का पानी चढ़ाया, इन सभी मिस्लों को एक छतरी के नीचे ले आए। और उन्होंने जिस साम्राज्य की स्थापना की उसका नाम था – सिख साम्राज्य और उसकी राजधानी लाहौर बनी।

 

➨ “खालिस्तान” साम्राज्य का इतिहास

यह साम्राज्य आधी सदी तक चला लेकिन अंग्रेजों से पराजित होने के बाद सिख साम्राज्य फिर से कई हिस्सों में बँट गया जिससे लगभग पूरा पंजाब अंग्रेजों के अधीन आ गया और उन्होंने इसे पंजाब प्रांत कहा। यहाँ तक ​​कि बची हुई छोटी-छोटी रियासतों ने भी अंततः अंग्रेजों की गुलामी स्वीकार कर ली। वर्ष 1947 में भारत की स्वतंत्रता के साथ ही देश दो भागों में विभाजित हो गया। और अंग्रेजों के पंजाब प्रांत को भी दो भागों में बाँट दिया गया जिनमें से अधिकांश भाग पाकिस्तान को और कुछ भाग भारत को मिला।

 

इस दौरान हिंदुओं और मुसलमानों को जान-माल का काफी नुकसान हुआ। लेकिन सबसे ज्यादा नुकसान सिखों को हुआ है। भारत के सिखों और नवजात पाकिस्तान के सिखों के लिए। लाहौर, एक बार सिख साम्राज्य की राजधानी, एक मुस्लिम राष्ट्र बन गया। इन सब से प्रभावित होकर सिक्खों से अलग राष्ट्र की माँग भी कानाफूसी तक जोर पकड़ने लगी।

 

➨ जब खालिस्तान का ऐलान हुआ

1971 में, 13 अक्टूबर को, द न्यूयॉर्क टाइम्स में एक विज्ञापन दिया गया था, जिसमें घोषणा की गई थी कि खालिस्तान अब एक अलग देश है। इसमें दुनिया भर के सिखों की मदद मांगी गई थी। यह विज्ञापन जगजीत सिंह चौहान ने दिया था। खुशवंत सिंह ने अपनी किताब ‘सिखों का इतिहास’ में इसका जिक्र किया है। उस समय “राज करेगा खालसा” जैसे नारे लगे।

जगजीत सिंह ने वास्तव में ब्रिटेन में खालिस्तान आंदोलन शुरू किया लेकिन वहां कोई मदद नहीं मिली। कहा जाता है कि 1979 में, जगजीत सिंह ने खालिस्तानी राष्ट्रीय काउंसिल की स्थापना की और कथित तौर पर खालिस्तान पासपोर्ट जारी करना शुरू कर दिया। यह वह दौर था जब पंजाब खालिस्तानी आंदोलन के कब्जे में आने लगा था।

 

➨ खालिस्तान का पाकिस्तानी कनेक्शन ?

डॉक्टर जगजीत सिंह ने विदेशों में खालिस्तानी आंदोलन को मजबूत करने में लगे थे। इस बीच, 1971 का युद्ध छिड़ गया और जगजीत सिंह को पाकिस्तान आमंत्रित किया गया। जगजीत सिंह ने वहां जाकर भी खालिस्तान के दावे को बुलंद किया। जगजीत सिंह ने एक इंटरव्यू में कहा था कि पाकिस्तान के तत्कालीन राष्ट्रपति जुल्फिकार अली भुट्टो ने ननकाना साहिब को खालिस्तान की राजधानी बनाने का ऑफर दिया था।

 

 

यह भी पढ़ें

Relationship: क्या है तलाक-ए-हसन? जानिए इस्लाम में कितने तरीके के होते हैं तलाक

 

 

Tags

विज्ञापन

शॉर्ट वीडियो

विज्ञापन