MP: पटवारी भर्ती परीक्षा की नियुक्तियों पर CM शिवराज ने लगाई रोक, होगी जांच

भोपाल: ग्रुप-2 उप समूह-4 एवं पटवारी भर्ती परीक्षा पर मध्यप्रदेश कर्मचारी चयन मंडल द्वारा सफाई देने के बाद प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने फिलहाल नियुक्तियों पर रोक लगा दी है. भाजपा विधायक संजीव सिंह कुशवाह के कॉलेज सेंटर के परिणामों की एक बार फिर जांच की जाएगी.

 

कांग्रेस ने उठाए सवाल

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने बताया कि कर्मचारी चयन मंडल द्वारा समूह 2 उप समूह 4 एवं पटवारी भर्ती परीक्षा के परिणामों को लेकर एक सेंटर संदेह के घेरे में है. इसलिए परीक्षा के आधार पर की जाने वाली नियुक्ति को अभी के लिए रोक दिया गया है. एक बार फिर सेंटर के परिणाम का पुनः परीक्षण किया जाएगा. गौरतलब है कि परीक्षा परिणाम में धांधली को लेकर कांग्रेस राज्य सरकार पर हमलावर है. इसके साथ ही अभ्यर्थी जांच की मांग को लेकर भोपाल, इंदौर समेत कई शहरों में विरोध प्रदर्शन कर रहे थे. पूर्व सीएम कमलनाथ, दिग्विजय सिंह और नेता प्रतिपक्ष गोविंद सिंह ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को इन मांगों को लेकर पत्र भी लिखा था. इस पूरे मामले में कांग्रेस ने CBI जांच की मांग भी उठाई थी.

 

चयन मंडल बोला- नहीं हुई अनियमितता

दूसरी ओर पटवारी चयन परीक्षा को लेकर मध्यप्रदेश कर्मचारी चयन मंडल द्वारा धांधली के आरोपों को भ्रामक बताया गया है. मंडल की ओर से कहा गया है कि ग्रुप 2 सब ग्रुप 4 एवं पटवारी पद के लिए संयुक्त भर्ती परीक्षा – 2022, 15 मार्च 2023 से 26 अप्रैल 2023 तक आयोजित की गई जिसमें 1279063 अभ्यर्थियों के प्रवेश पत्र जारी किये गए थे. इस दौरान 978270 अभ्यर्थी परीक्षा में शामिल हुए थे. 13 शहरों के 78 परीक्षा केन्द्रों पर इस परीक्षा का आयोजन किया गया था जो 70 पालियों में संपन्न हुई थी.

8617 पदों के लिए मेरिट सूची और परीक्षा परिणाम 30 जून को जारी की गई थी. मंडल की ओर से NRI इंस्टीट्यूट ग्वालियर से चयनित 7 टॉपर्स को लेकर जानकारी दी गई कि सेंटर पर कुल 114 अभ्यर्थी (1.32 प्रतिशत) चयनित हुए हैं. जबकि मेरिट में रीक्षा केन्द्रों से भी अधिकतम 321 अभ्यर्थी (3.73 प्रतिशत ) से लेकर न्यूनतम 29 अभ्यर्थियों (0.34 प्रतिशत ) का चयन हुआ है.

 

Latest news

spot_img