June 16, 2024
  • होम
  • Vat Savitri Vrat 2024: जानें वट सावित्री व्रत पर किस विधि से करें पूजा, पति की लंबी आयु के लिए होता है व्रत

Vat Savitri Vrat 2024: जानें वट सावित्री व्रत पर किस विधि से करें पूजा, पति की लंबी आयु के लिए होता है व्रत

  • WRITTEN BY: Tuba Khan
  • LAST UPDATED : June 3, 2024, 2:35 pm IST

नई दिल्लीः वट सावित्री व्रत का त्योहार ज्येष्ठ माह के कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि को मनाया जाता है। यह त्यौहार सभी विवाहित हिंदू महिलाओं के लिए बहुत खास है। इस दिन विवाहित महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र और स्वास्थ्य की कामना के लिए व्रत रखती हैं। इस दिन विवाहित महिलाएं अपने पति के अच्छे स्वास्थ्य और अखंड विवाह की कामना के लिए हर घर में बरगद या बरगद के पेड़ की पूजा करती हैं।

वट सावित्री व्रत तिथि और शुभ मुहूर्त

इस बार 5 जून की शाम को 7 बजकर 54 मिनट से ज्येष्ठ अमावस्या तिथि आरंभ होगी और इसका समापन अगले दिन 6 जून की शाम 6 बजकर 7 मिनट पर होगा. उदया तिथि के मुताबिक इस साल वट सावित्री व्रत 6 जून, दिन गुरुवार को रखा जायेगा. हिंदू पंचांग के मुताबिक वट सावित्री व्रत के दिन पूजा का शुभ मुहूर्त सुबह 11 बजकर 52 मिनट से लेकर दोपहर के 12 बजकर 48 मिनट तक रहेगा. इस दौरान वट वृक्ष की पूजा अर्चना की जा सकती है.

इस तरह करें पूजा

वट सावित्री के व्रत के दिन, व्यक्ति विधिपूर्वक बरगद या बरगद के पेड़ की पूजा करता है, जिसके बाद वह बरगद के पेड़ की सात या ग्यारह बार परिक्रमा करता है और पेड़ के चारों ओर कच्चा सूत लपेटता है। यदि कच्चा सूत उपलब्ध न हो तो करबा का भी प्रयोग कर सकते हैं। इसके बाद बरगद के पेड़ को जल दें और पेड़ के नीचे बैठकर वट सावित्री व्रत कथा सुनें। फिर भगवान से अपनी पत्नी के लिए लंबी उम्र और स्वास्थ्य की कामना करें।

अपने वैवाहिक जीवन में कलह को दूर करने और उसे खुशहाल बनाने के लिए वट सावित्री व्रत के दिन बरगद के पेड़ के नीचे भगवान विष्णु के साथ देवी लक्ष्मी की पूजा करें और उनकी मूर्ति के सामने घी का दीपक जलाएं। अब अपने पति के साथ वट वृक्ष की 11 बार परिक्रमा करें. माना जाता है कि इस उपाय के प्रयोग से वैवाहिक जीवन सुखमय होता है। इस उपाय को रोजाना भी इस्तेमाल किया जा सकता है.

धन संपत्ति के लिए उपाय

अपनी आर्थिक स्थिति को बेहतर बनाने और कर्ज से छुटकारा पाने के लिए वट सावित्री व्रत के दिन देवी लक्ष्मी की पूरे विधि-विधान से पूजा करें और पूजा के दौरान देवी लक्ष्मी को 11 कौड़ियां चढ़ाएं। यदि पीले कौड़ियां उपलब्ध नहीं हैं तो आप सफेद छिलकों को हल्दी में घिसकर पीला कर सकते हैं और देवी लक्ष्मी को अर्पित कर सकते हैं। पूजा समाप्त होने पर इन पीली कौड़ियों को लाल कपड़े में बांधकर तिजोरी में रख दें। माना जाता है कि इस उपचार से आपके धन में वृद्धि होती है और आपकी आर्थिक स्थिति में सुधार होता है।

यह भी पढ़ें –


Shiva Aarti: पाना चाहते हैं सभी संकटों से मुक्ति, तो भगवान शिव की पूजा करते समय करें ये आरती

Tags

विज्ञापन

शॉर्ट वीडियो

विज्ञापन