March 1, 2024
  • होम
  • Sengol: सेंगोल को लेकर झूठ बोल रही कांग्रेस, तिरुवदुथुराई आदिनम ने लगाया बड़ा आरोप

Sengol: सेंगोल को लेकर झूठ बोल रही कांग्रेस, तिरुवदुथुराई आदिनम ने लगाया बड़ा आरोप

  • WRITTEN BY: Apoorva Mohini
  • LAST UPDATED : June 10, 2023, 4:28 pm IST

नई दिल्ली : तमिलनाडु के एक धार्मिक मठ थिरुवदुथुराई आदिनम ने एक अंग्रेजी अखबार में छपी उस रिपोर्ट को शरारतपूर्ण करार दिया है जिसमें कहा गया है कि आदिनम स्पष्ट नहीं है कि नए संसद भवन में स्थापित सेंगोल को लॉर्ड माउंटबेटन को सौंपा गया था या नहीं।

जयराम रमेश किया था ट्वीट

इससे पहले, कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने दावा किया था कि सेंगोल ने कभी भी लॉर्ड माउंटबेटन को आकर्षित नहीं किया था, जो अंग्रेजी अखबार तिरुवदुसुराय आदिनम के प्रमुख स्वामी के बयानों पर आधारित था। न ही सी राजगोपालाचारी से इस बारे में कोई चर्चा हुई।

उन्होंने कहा कि जब खुद सेंगोल लॉर्ड माउंटबेटन को नहीं मिला था तो माउंटबेटन इसे जवाहरलाल नेहरू को कैसे सौंप सकते थे?

नए मामले ने यह स्पष्ट कर दिया है कि पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू को सत्ता हस्तांतरण के प्रतीक सेंगोल की कहानी फ़ाइल और भाजपा की ‘नकली फैक्ट्री’ का पर्दाफाश हो गया है।

आदिनम ने रिपोर्ट को बताया अप्रासंगिक

आदिनमने रिपोर्ट को अप्रासंगिक बताते हुए कहा कि तथ्यों को तोड़ मरोड़ कर पेश किया गया है। उन्होंने कहा कि थिरुवदुदुरई आदीनम के कुछ प्रतिनिधि 14 अगस्त, 1947 को सेंगोल देने के लिए दिल्ली पहुंचे थे। यह सेंगोल लॉर्ड माउंटबेटन को दिया गया था। बाद में इसका गंगाजल से अभिषेक किया गया। फिर इसे जवाहरलाल नेहरू को दे दिया गया।

ये थे कांग्रेस के सवाल

कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने एक अंग्रेजी अखबार में प्रकाशित थिरुवदुथुराई आदिनम के प्रमुख श्री अंबालावना देसिका परमाचार्य स्वामीगल के इंटरव्यू का हवाला देते हुए सेंगोल के बारे में सवाल पूछा था। जयराम ने कहा था कि सेंगोल को पंडित नेहरू को सौंपने की जो तस्वीर दिखाई गई है उसमें प्रसिद्ध नागास्वरम कलाकार टीएन राजारत्नम पिल्लई भी थे।

उनके अनुसार केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय की वेबसाइट के एक लेख में कहा गया है कि जब भारत ने स्वतंत्रता प्राप्त की तो तिरुवदुसुराई मठ के पंडारसन्नधि द्वारा राजारत्नम को दिल्ली भेजा गया था, ताकि उनकी ओर से सेंगोल भेंट के रूप में दिया जा सके।

डॉ पी सुब्बारायण ने उन्हें पंडित नेहरू से मिलवाया और राजारत्नम ने सेंगोल अधिपति से पहले नागस्वरम की धुन भी सुनाई।

 

यह भी पढ़िए :

महाराष्ट्र: मुझे सिस्टम और पुलिस पर पूरा भरोसा…संजय राउत को मिल रही धमकियों पर बोले शरद पवार

Noida: मेट्रो के आगे लगा दी युवक ने छलांग, मौके पर हुई मौत

 

Tags