SBI: उपभोक्ता न्यायालय ने एसबीआई को ऑनलाइन धोखाधड़ी के मामलों में ग्राहक को पैसा वापस करने का निर्देश दिया

नई दिल्लीः एक महत्वपूर्ण फैसले में, गुजरात में उपभोक्ता न्यायालय ने भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) को ऑनलाइन धोखाधड़ी के मामलों में ग्राहकों के पैसे वापस करने का निर्देश जारी किया है। यह फैसला अपने ग्राहकों को डिजिटल वित्तीय धोखाधड़ी से बचाने की बैंक की जिम्मेदारी पर जोर देता है।

ऑनलाइन धोखाधड़ी का बढ़ता जा रहा हैं ख़तरा

वित्तीय सेवाओं के तेजी से डिजिटलीकरण के साथ, हाल के वर्षों में ऑनलाइन धोखाधड़ी एक महत्वपूर्ण चिंता का विषय बन गया है। यह मामला न केवल ग्राहकों को बल्कि बैंकों, वित्तीय संस्थानों और कानून प्रवर्तन एजेंसियों को भी प्रभावित करता है। अपराधी ग्राहकों को धोखा देने और उनकी मेहनत की कमाई चुराने के लिए किसी भी हद तक जा रहे हैं। वैसे ही कई क्षेत्रों की तरह गुजरात में भी ऑनलाइन धोखाधड़ी के मामलों देखे गये है।

उपभोक्ता न्यायालय का निर्देश

समस्या की गंभीरता को समझते और देखते हुए, गुजरात में उपभोक्ता न्यायालय ने भारतीय स्टेट बैंक को प्रभावित ग्राहकों को पैसे वापस करने का निर्देश देकर एक अहम कदम उठाया हैं। अदालत का यह फैसला उन लोगों के लिए एक आशा की किरण बनकर आया है जो ऑनलाइन धोखाधड़ी का शिकार हुए हैं। निर्देश इस बात पर जोर देता है कि बैंकों और वित्तीय संस्थानों को अपने ग्राहकों के वित्तीय लेनदेन की सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए कुछ जिम्मेदारी भी उठानी होगी। केवल डिजिटल बैंकिंग सेवाएँ देने से कान नहीं चलता है, तथा ऑनलाइन लेनदेन से जुड़े जोखिमों के बारे में अपने ग्राहकों के बीच जागरूकता बढ़ानी चाहिए।

उपभोक्ता जागरूकता और शिक्षा

जहां ग्राहकों के धन की सुरक्षा में बैंकों की महत्वपूर्ण भूमिका है, वहीं लोगो को भी अपनी ऑनलाइन सुरक्षा की जिम्मेदारी लेनी चाहिए। अदालत का निर्णय ग्राहकों को आम धोखाधड़ी के बारे में शिक्षित करने तथा उन्हें सुरक्षित और सही तरह से ऑनलाइन का उपयोग करने के लिए बताया हैं।

Latest news