भाजपा के मंत्री के ऊपर फेंकी गई स्याही, दलितों के लेकर दिया था विवादित बयान

मुंबई। वर्तमान मे कैबिनेट मंत्री एवं महाराष्ट्र में भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल के ऊपर स्याही फेंकी गई है, स्याही फेंकने वाले व्यक्ति को पुलिस ने फिलहाल हिरासत मे ले लिया है। यह घटना तब घटित हुई जब चंद्रकांत पाटिल एक कार्यक्रम में जा रहे थे, तभी एक व्यक्ति अचानक उनकी तरफ बढ़ा और स्याही फेंक दी, भाजपा नेता के द्वारा दलित नेताओं पर दिए गए विवादित बयान को लेकर यह घटना घटित हुई।

क्या विवादित बयान दिया था?

भाजपा नेता एवं मंत्री चंद्रकांत पाटिल का विवादित बयान अब सिरदर्द साबित हो रहा है, उनके इस बयान को लेकर सभी विपक्षी दल भाजपा एवं उनके नेता चंद्रकांत पाटिल को निशाने पर ले रहे हैं।
चंद्रकांत पाटिल ने एक कार्यक्रम में कहा था कि, डॉ. भीमराव अंबेडकर, कर्मवीर भाऊराव पाटिल, महात्मा ज्योतिबा फुले और सावित्रीमाई फुले ने भीख मांगकर स्कूल खोले थे. पाटिल के इस बयान को लेकर सभी विपक्षी दल उन पर निशाना साध रहे हैं।
इस बयान के बाद चंद्रकांत पाटिल ने कहा कि, यदि मेरी बात से किसी के मन को ठेंस पहुंचाई है तो मै माफी मांगने के लिए तैयार हूं मेरा मन आपकी तरह छोटा नहीं हो सकता, मैं माफी मांगने में शर्म महसूस नहीं कर रहा हूं।

दोबारा दिया विवादित बयान

चंद्रकांत पाटिल ने अपने भीख मांगने वाले बयान को सही करने के लिए एक उदाहरण दिया जिसको लेकर फिर से विवाद पैदा हो गया उन्होने उदाहरण देकर कहा कि, भीख मांगने का मतलब यह है कि, जैसे गणेशोत्सव या किसी भी अन्य त्यौहारों पर कार्यक्रम हेतु चंदा मांगा जाता है। पाटिल के इस बायन के बाद भी चर्चाएं शुरू हो गईं और तमाम नेता लगातार उन्हे कह रहे हैं कि, पाटिल को भीख मांगने और चंदा मांगने में फर्क ही नहीं पता।
पाटिल के इस बायन पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नाना पटोले ने एक बायन जारी कर निंदा की है। और उन्होने कहा है कि, छत्रपति शिवाजी महाराज के बारे मे दिए गए बयान पर भी भाजपा के किसी नेता ने अब तक माफी नहीं मांगी है

Latest news