March 1, 2024
  • होम
  • India-Canada: भारत ने कनाडाई डिप्लोमैट्स को क्यों किया बाहर? जानें वजह

India-Canada: भारत ने कनाडाई डिप्लोमैट्स को क्यों किया बाहर? जानें वजह

  • WRITTEN BY: Shiwani Mishra
  • LAST UPDATED : November 27, 2023, 6:46 pm IST

नई दिल्लीः खालिस्तानी आतंकी हरदीप सिंह निज्जर की मौत के बाद भारत और कनाडा(India-Canada) जैसे दो बड़े मुल्कों के बीच तनाव पैदा हो गया। निज्जर के मौत की वजह से तनाव इस कदर बढ़ा कि दोनों देशों ने अपने-अपने यहां मौजूद राजनयिकों को देश छोड़कर जाने को कह दिया। बता दें कि कनाडा में भारतीय हाई कमिश्नर संजय कुमार वर्मा ने भारत से कनाडा के राजनयिकों को निकाले जाने और कनाडा संग रिश्तों पर अपनी बात की है।

भारतीय हाई कमिश्नर ने क्या कहा?

जानकारी के मुताबिक एक इंटरव्यू में भारतीय हाई कमिश्नर ने कनाडा राजनयिकों को नई दिल्ली छोड़कर जाने और दर्जनों अन्य कनाडाई अधिकारियों को दी गई राजनयिक छूट को खत्म किए जाने समेत कई सारे मुद्दों पर जवाब दिया। भारतीय हाई कमिश्नर ने कहा कि भारत के जरिए कनाडा के राजनयिकों को नई दिल्ली से निकालना ‘जवाबी कार्रवाई’ थी और ये पूरी तरह से ‘भावनात्मक पहलू’ पर आधारित था।

जस्टिन ट्रूडो ने लगाया भारत पर इल्जाम

हालांकि, कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने सितंबर में भारत(India-Canada) पर लगाया कि आरोप खालिस्तानी आतंकी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या में भारतीय एजेंट्स का हाथ है। निज्जर की इस साल जून में ब्रिटिश कोलंबिया प्रांत के एक गुरुद्वारे के बाहर गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। कनाडा के आरोपों को भारत ने बेतुका और राजनीति से प्रेरित बताया। इसके बाद दोनों देशों ने अपने-अपने यहां मौजूद राजनयिकों को देश छोड़कर जाने के लिए कह दिया।

भारत-कनाडा के बीच अब बेहतर हैं रिश्ते

भारतीय हाई कमिश्नर संजय कुमार वर्मा ने कहा कि भारत-कनाडा के बीच रिश्ते दो महीने पहले जैसे थे, उसके मुकाबले अब ज्यादा बेहतर हैं। इसके बाद उन्होंने कहा कि कनाडा के राजनयिकों को नई दिल्ली से निकालने के भारत के फैसले में भावनात्मक पहलू शामिल थे।

वहीं भारतीय उच्चायुक्त ने कहा कि अक्टूबर में दर्जनों अन्य कनाडाई राजनयिकों से राजनयिक छूट छीनने का कदम काफी हद तक समानता दिखाने के लिए था। कमिश्नर ने की भारत अब ये सुनिश्चित करने के लिए कदम उठाया है कि कनाडा में जितने भारतीय राजनयिक तैनात थे, उतने ही संख्या में कनाडाई राजनयिक भी भारत में रह सकेंगे हैं।

यह भी पढ़े: Election: तेलंगाना बीजेपी अध्यक्ष का ऐलान, जीत गए तो हैदराबाद का नाम बदल देंगे

Tags