नई दिल्ली. विवादास्पद भारतीय इस्लामिक उपदेशक जाकिर नाइक ने मंगलवार को मलेशिया में नस्लीय रूप से संवेदनशील टिप्पणी करने के लिए माफी मांगी. ये उनसे पुलिस द्वारा टिप्पणियों पर घंटों पूछताछ करने के अगले दिन हुआ. भारत में मनी लॉन्ड्रिंग और अभद्र भाषा के आरोपों का सामना करने वाले नाइक उन टिप्पणियों के लिए घिर गए हैं, जिसमें उन्होंने मलेशिया के जातीय और धार्मिक अल्पसंख्यकों को मुस्लिम मलय बहुमत के खिलाफ खड़ा कर दिया था. मलेशियाई पुलिस ने इस महीने की शुरुआत में जाकिर द्वारा दिए गए एक भाषण के बारे में सोमवार को नाइक से 10 घंटे तक पूछताछ की, जिसमें उन्होंने कहा कि मलेशिया में हिंदुओं को भारत में मुस्लिम अल्पसंख्यक की तुलना में 100 गुना अधिक अधिकार था और यह कि मलेशियाई चीनी देश के मेहमान थे.

रेस और धर्म मलेशिया में संवेदनशील मुद्दे हैं, जहां मुसलमान कुल 32 मिलियन लोगों में से लगभग 60 प्रतिशत हैं. बाकी ज्यादातर जातीय चीनी और भारतीय हैं, जिनमें से अधिकांश हिंदू हैं. लगभग तीन साल तक मलेशिया में रहने वाले नाइक ने अपनी टिप्पणी के लिए माफी मांगी, लेकिन जोर देकर कहा कि वह नस्लवादी नहीं थी. उन्होंने कहा कि उनके विरोधियों ने उनकी टिप्पणियों को गलत तरीके से लिया.

उन्होंने मंगलवार को एक बयान में कहा, किसी व्यक्ति या समुदाय को परेशान करना मेरा उद्देश्य कभी नहीं था. यह इस्लाम के मूल सिद्धांतों के खिलाफ है और मैं इस गलतफहमी के लिए अपने दिल से माफी मांगना चाहता हूं. बता दें कि नाइक का मलेशिया में स्थायी निवास है. उनकी विवादित टिप्पणी के बाद कई मंत्रियों ने उनके निष्कासन का आह्वान किया और कम से कम सात राज्यों ने उन्हें सार्वजनिक रूप से बोलने से रोक दिया. मलेशियाई प्रधान मंत्री महाथिर मोहम्मद ने कहा कि रविवार को नाइक इस्लाम के बारे में प्रचार करने के लिए स्वतंत्र थे, लेकिन मलेशिया की नस्लीय राजनीति के बारे में नहीं बोलना चाहिए था.

Ex PM Rajeev Gandhi 75th Anniversary: पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की 75वीं जयंती आज, पीएम नरेंद्र मोदी, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी, प्रियंका गांधी वाड्रा ने दी श्रद्धांजलि

Sadhvi Pragya calls Jawaharlal Nehru Criminal: शिवराज सिंह चौहान के बाद साध्वी प्रज्ञा ने जवाहरलाल नेहरू को बताया अपराधी, कहा- पीएम मोदी और अमित शाह के समर्थक सच्चे देशभक्त