लंदन. विकीलीक्‍स के संस्थापक जूलियन असांज को इक्‍वाडोर के दूतावास से ब्रिटिश पुलिस ने गिरफ्तार किया है. इस बात की जानकारी न्यूज एजेंसी एएफपी ने दी है. जूलियन पोल असांज को मेट्रोपॉलिटन पुलिस सर्विस द्वारा इक्वाडोर दूतावास से गिरफ्तार किया है. असांजे कंप्यूटर कंप्यूटर-कोडिंग करने में माहिर और वह एक हैकर भी है जो सच को सामने लाने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं. अपने काम को करने के लिए वह कई घंटो तक बिना खाए और बिना सोए पूरा करके ही मानते हैं.

असांज का जन्म 1971 में उत्तरी ऑस्ट्रेलिया में हुआ और यह सिर्फ 18 साल की उम्र में ही पिता बन गए थे. इनके काम के लिए इन्हें कई अवॉर्ड भी मिल चुके हैं जिसमें साल 2008 में द इकॉनोमिस्ट का अवॉर्ड भी इन्हें मिला. साल 2010 में इन्हें टाइम पर्सन ऑफ द ईयर और सैम एडम्स अवॉर्ड से भी इन्हे नवाजा गया है.

हालांकि इसके साथ ही इन्हें कई और बड़े अवॉर्ड मिले हैं लेकिन यह कुछ और करना चाहते थे. इसके बाद उन्होंने साल 2006 में कुछ कंप्यूटर कोडिंग के महारथियों को अपने साथ लेकर विकीलीक्स की शुरुआत की जिसका मुख्य काम कंप्यूटर हैक करने वाले दस्तावेजों को जारी करना था. विकीलीक्स ने ही विकीलीक्स इराक, अफगानिस्तान युद्ध और अमरीका से जुड़े कई दस्तावेज जारी किए. विकीलिक्स के बारे में अभी तक किसी को अधिक जानकारी नहीं है क्योंकि इसके टीम के सदस्य कानूनी पचड़े से बचने के लिए अलग-अलग देशों से भी काम करते हैं.

खुद असांज ने मीडिया को विकीलिक्स के बारे में बताया था कि आज तक किसी भी केस में इन्हें हार नहीं मिली है. इतना ही नहीं इन्होंने अभी तक अपने किस स्रोत को भी नहीं खोया है. असांज के काम को देखकर कुछ लोग यह भी कहते हैं कि एक काम को पूरा करके ही आराम करते हैं.

असांज को 2016 में अपने ईमेल की हैकिंग के संबंध में डेमोक्रेटिक नेशनल कमेटी द्वारा दायर 20 अप्रैल 2018 के मुकदमे में एक प्रतिवादी के रूप में नामित किया गया था.इसके साथ ही इनके उपर स्वीडन में यौन-दुर्व्यवहार का भी आरोप लगा था इस मामले में असांज के वकीलों ने बताया था कि यह सहमति से हुआ था. इसके बाद यह केस बंद भी कर दिया, हालांकि इसे फिर अगस्त में दोबारा से खोल दिया.

Julian Assange Wikileaks Arrested: विकिलीक्‍स के संस्थापक जूलियन असांज लंदन में गिरफ्तार

Julian Assange Wikileak Arrestet Social Media Reaction: विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन असांजे लंदन में गिरफ्तार, सोशल मीडिया पर छिड़ी बहस

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App