शिकागोः अमेरिका के शिकागो में आयोजित दूसरे World Hindu Congress का रविवार को समापन हो गया. इस अवसर पर उपराष्ट्रपति वेकैंया नायडू ने संबोधित किया. उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में कुछ लोग हिंदू शब्द के विषय में गलत सूचनाएं फैला रहे हैं और उसे अछूत और असहनीय बनाने की कोशिश कर रहे हैं. उपराष्ट्रपति ने अपने समापन भाषण में हिंदू धर्म से लेकर देश की छमताओं के विषय में बात की. इस आयोजन में दुनिया भर से पहुंचे हिंदुुओं ने भाग लिया.

समापन समारोह के दौरान भाषण में नायडू ने हिंदू धर्म के सच्चे मूल्कों को संरक्षण करने पर जोर दिया ताकि ऐसी धारणाओं कोक बदला जा सके जो गलत सूचनाओं की वजह से बन गई हैं. वहीं उन्होंने कहा कि भारत सार्वभौमिक सहनशीलता में विश्वास रखता है और हिंदू हो या मुस्लिम सभी धर्मों को सच्चा मानता है. हिंदू धर्म की व्याख्या करते हुए उन्होंने कहा कि साझा करना और ख्याल करना इस धर्म के मूल तत्व हैं. भाषण के दौरान उन्होंने इस बात का अफसोस जताया कि आजकल हिंदू धर्म को लेकर गलत सूचनाएं फैलाई जा रही हैं.

आपको बता दें कि शिकागो में 11 सितंबर 1893 को धर्म संसद में स्वामी विवेकानंद द्वारा गए भाषण की 125वीं वर्षगांठ के अवसर पर विश्व हिंदू कांग्रेस का आयोजन किया जा रहा था. इस कार्यक्रम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत भी मौजूद रहे थे. भागवत ने कहा था कि हिंदू समाज में प्रतिभावान लोगों की संख्या ज्यादा है लेकिन वे साथ नहीं आते.

यह भी पढ़ें- World Hindu Congress: शिकागो में बोले RSS प्रमुख मोहन भागवत- वर्षों से प्रताड़ित हो रहे हिंदुओं को एकजुट होने की जरूरत

विश्व हिंदू सम्मेलन में संघ प्रमुख मोहन भागवत के शेर और कुत्ते वाले बयान पर भड़के ओवैसी, पूछा- कौन शेर है और कौन कुत्ता?

 

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App