नई दिल्ली. अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ महाभियोग चलाया जाएगा. संसद के निचले सदन हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव में ट्रंप के खिलाफ बुधवार को लंबी बहस के बाद प्रस्ताव पास हुआ. निचले सदन में ट्रंप की पार्टी रिपब्लिकन कमजोर है और डेमोक्रेटिक मजबूत. इस सदन से प्रस्ताव पारित होने के बाद ऊपरी सदन यानी सीनेट में जाएगा. ऊपरी सदन में ट्रंप की पार्टी के पास बहुमत है. डोनाल्ड ट्रंप अमेरिका के तीसरे राष्ट्रपति होंगे जिनके खिलाफ महाभियोग चलाया जाएगा. 

सदन में विपक्षी दल डेमोक्रेटिक से प्रतिनिधि सुसान डेविस ने कहा कि उन्होंने राष्ट्रपति के खिलाफ महाभियोग नहीं लगाया बल्कि ट्रंप ने खुद ऐसा किया. ट्रंप देश के राष्ट्रपति हैं फिर भी उन्होंने विदेश नेता को रिश्वत देने का प्रयास किया. आगे सुसान डेविस ने राष्ट्रपति ट्रंप को राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा बताया. साथ ही उन्होंने डोनाल्ड ट्रंप पर न्याय में बाधा डालने का आरोप लगाया.

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पर संसद के कार्यों में बाधा डालने का आरोप है. साथ ही ट्रंप पर आरोप है कि उन्होंने साल 2020 में होने जा रहे आम चुनाव के लिए सत्ता का दुरुपयोग करते हुए यूक्रेन के राष्ट्रपति को विपक्षी दल डेमोक्रेट के दो नेताओं के खिलाफ जांच का दबाव डाला. हालांकि, ट्रंप ने इन सभी आरोपों को सिरे से नकार दिया. उन्होंने कहा कि 2020 के चुनाव में उन्हें सत्ता से बाहर करने के लिए ऐसा किया गया.

महाभियोग प्रस्ताव से पहले डोनाल्ड ट्रंप ने स्पीकर नैन्सी पॉलोसी को लिखा था पत्र

बुधवार को राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव की स्पीकर नैन्सी पॉलोसी को पत्र लिखकर उन समेत सभी डेमोक्रेट्स मेंबरों को संबोधित किया. चिट्ठी में ट्रंप ने कहा कि उनके खिलाफ जो महाभियोग लाने की कोशिश की जा रही है वह अमेरिकी इतिहास में लोकतंत्र पर अबतक का सबसे बड़ा हमला है.

Boris Johnson Wins UK Election Results: ब्रिटेन चुनाव में बोरिस जॉनसन की कंजर्वेटिव पार्टी ने लहराया परचम, ब्रेग्जिट से निकलना का रास्ता आसान, पीएम नरेंद्र मोदी ने दी बधाई

Donald Trump Attacks Greta Thunberg: डोनाल्ड ट्रंप ने टाइम्स ऑफ द ईयर ग्रेटा थनबर्ग पर कसा तंज, कहा- गुस्सा कम करो और फिल्में देखो