नई दिल्लीः  राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अप्रैल 2017 में रासायनिक हथियारों से हमला कर सीरियाई राष्ट्रपति बशर-अल-असद की हत्या का आदेश दिया था ये दावा है ट्रंप प्रशान के बारे में आ रही एक नई किताब का जिसमें उन्होंने ट्रंप द्वारा सीरिया के राष्ट्रपति की हत्या का आदेश देने का दावा किया है. इस किताब के लेखकर हैं. ये दावा किया गया है नई किताब डरः ट्रंप इन द व्हाइट हाउस (Fear: Trump in the White House) में. 

इस किताब के के दावे के बाद विश्व राजनीति में एक नई उथल-पुथल देखने को मिल रही है. विशेषज्ञों के मुताबिक अगर इस किताब का दावा सही साबित होता है तो डोनाल्ड ट्रंप औरअमेरिका को पूरे विश्व के इस्लामिक देशों की आलोचना और गुस्से का शिकार होना पड़ेगा.

ट्रंपः इन द व्हाइट हाउस के लेखक वाशिंगटन पोस्ट के पत्रकार बॉब वुडवर्ड हैं जो इसको 11 सितंबर को लॉन्च करने वाले हैं. किताब के मुताबिक व्हाइट हाउस के अंदर के दुखन जीवन और डोनाल्ड ट्रंप कैसे देसी विदेशी मामले और घरेलू नीतियों पर निर्णय लेते हैं. किताब के प्रकाशक साइमन एंड शूस्टर ने अपने बयान में बताया कि इस किताब में इस बारे में पूरे विस्तार से बताया गया है.

कई अन्य दावों में किताब ने पिछले साल सीरिया में एक रासायनिक हथियार हमले के राष्ट्रपति की प्रतिक्रिया को प्रकट करने के लिए कहा था, जिसे कथित रूप से असद सरकार ने किया था. सीरिया ने विद्रोही समूहों को विपरीत रूप से दोषी ठहराया है. जिसके बाद हमले की खबर प्राप्त होते ही ट्रम्प ने कथित तौर पर रक्षा सचिव जेम्स मैटिस को गुस्से में असद की हत्या का आग्रह किया.

वुडवर्ड के मुताबिक वाशिंगटन पोस्ट ने मंगलवार को बताया कि डोनाल्ड ट्रंप ने रक्षा सचिव को फोन कर गुस्से में उसकी (बशर-अल-असद) की जिंदगी खत्म करने की बात कहते हुए उसे मार डालने का आदेश दिया था.

वुडवर्ड के मुताबिक अंत में ट्रंप ने सीरियाई हवाई अड्डे पर हवाई हमलों का आदेश दिया और जिसमें सीधे असद को लक्षित नहीं किया. कुल मिलाकर, 59 टॉमहॉक मिसाइलों को लोड किया गया, सीरियाई सरकार को लक्षित करने वाले वाशिंगटन द्वारा पहली एकपक्षीय सैन्य कार्रवाई के तौर पर देखा गया था.

आतंकियों पर निर्णायक कार्रवाई नहीं होने से गुस्सा डोनाल्ड ट्रंप ने पाकिस्तान की 3660 करोड़ की मदद रोकी

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने दी WTO छोड़ने की धमकी तो रूस बोला- बहुत पछताओगे

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App