नई दिल्ली. अमेरिका और ईरान के बीच बढ़ते तनाव की वजह से विश्व बाजार में कच्चे तेल के दाम बढ़ गए हैं. ईरान किसी भी देश को कच्चे तेल का निर्यात नहीं कर सकता है इसके बाद भी विश्व बाजार में क्रूड ऑइल का दाम बढ़ रहे हैं. इसका कारण होरमुज जलसंधि है. यह जलसंधि तेल के कारोबार का सबसे अहम रूट है. ये अरब की खाड़ी और ओमान की खाड़ी के बीच में है. कुवैत, सऊदी, कतर और UAE की तरफ से आने वाले जहाज ओमान की खाड़ी और फिर आगे अरब सागर के रास्ते से जाते है.

इसी बीच ईरान का होरमुज द्वीप पड़ता है दुनिया के कुल तेल निर्यात का दो-तिहाई हिस्सा होरमुज जल क्षेत्र से ही होकर जाता है, जो कि व्यापार के लिए बहुत ही जरुरी है. इस मार्ग पर ईरान का दबदबा है. जब भी ईरान का अमेरिका से विवाद होता है तो ईरान इस मार्ग को बंद करने की धमकी देता है. ईरान अमेरिका की फौज से मुकाबला नहीं कर सकता है लेकिन इस मार्ग पर अपना दबदबा बनाकर अमेरिका को परेशान कर सकता है.

क्या है ईरान और अमेरिका का विवाद
ईरान और अमेरिका के बीच करीब चालीस साल से तनाव चल रहा है. पिछले कुछ दिनों से दोनों देशों के बीच तनाव चरम पर पहुंच गया है. जिसके बाद से ही तीसरे विश्व युद्ध शुरु होने की आशंका गहरा गई. दरअसल बीते शुक्रवार को अमेरिका ने इराक की राजधानी बगदाद पर हवाई हमला किया. इस हमले में ईरान के कमांडर जनरल कासिम सुलेमानी की मौत हो गई. जिसके बाद दोनों देशों के बीच तनाव काफी बढ़ गया है. ईरान ने अमेरिका को सबक सिखाने के लिए इराक में बैलिस्टिक मिसाइलें दागी थी, जहां अमेरिका के सैनिक तैनात थे. हालांकि इसमें कितना नुकसान हुआ है इसपर कुछ साफ नहीं हो सका है, दोनों देश अलग अलग बात कह रहे है. इसी बीच ईरान ने धमकी दी है कि अगर अमेरिका ने जवाबी कर्रवाई की तो इजरायल पर हमला करेंगे.

ईरान और अमेरिका विवाद का भारत पर असर
भारत कच्चे तेल के लिए खाड़ी देशों पर निर्भर है.ईरान और अमेरिका विवाद के बाद से ही तेज के दामों में बढ़ोतरी देखने को मिली है. विश्व बाजार में ब्रेंट क्रूड ऑइल 4.4 प्रतिशत बढ़कर 69.16 डॉलर प्रति बैरल, जबकि वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट क्रूड ऑइल 4.3 प्रतिशत उछलकर 63.84 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया. ऐसे में कच्चे तेल के दाम बढ़ने से भारतीय बाजार में पेट्रोल और डीजल की कीमत बढ़ रहे है. मेट्रो शहर में पेट्रोल के दाम 78 रुपए तक पहुंच गए हैं. वहीं केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद प्रधान ने कहा कि सरकार हर तरह के हालात के लिए तैयार है.

7th Pay Commission News: 7वें वेतनमान के तहत राज्य कर्मचारियों का यात्रा भत्ता 50 से 100 प्रतिशत बढ़ा

KVS Recruitment 2020: जानें कब से भरें जाएंगे केंद्रीय विद्यालय टीजीटी, पीजीटी और पीआरटी के 8,000 पदों पर फॉर्म

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर