जॉनसन एंड जॉनसन COVID-19 वैक्सीन के उपयोग से खून के थक्के जमने पर यूएस एफडीए ने किया सीमित

नई दिल्ली। जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन लाखों लोगों को कोरोना से बचने और कोरोना महामारी को नियंत्रित करने के लिए दी गई है. इस टीकाकरण के बीच कई लोगों ने रक्त के थक्कों की शिकायत की, जिसके बाद अमेरिकी खाद्य एवं औषधि प्रशासन (एफडीए) ने गुरुवार को कहा कि ‘जॉनसन एंड जॉनसन वैक्सीन ने 18 मिलियन से अधिक अमेरिकियों में जानलेवा रक्त के थक्के बना दिया है. और इस प्रकार ‘वैक्सीन के अधिकृत उपयोग को सीमित करने का आदेश जारी किया है.

हालांकि रक्त के थक्कों का यह मामला अभी भी अत्यंत दुर्लभ है और बहुत कम लोगों में पाया गया है, अधिकारियों ने कहा कि जॉनसन एंड जॉनसन वैक्सीन का उपयोग सीमित होना चाहिए, क्योंकि हमारे पास अन्य, सुरक्षित विकल्प हैं – जिनमें फाइजर और मॉडर्ना के टीके शामिल हैं, जिन्होंने अभी तक ऐसी शिकायतों की सूचना नहीं दी है.

एफडीए ने जारी किया बयान

एफडीए ने एक बयान में कहा कि ‘थ्रोम्बोसाइटोपेनिया सिंड्रोम (टीटीएस) के साथ पाए जाने वाले सभी रक्त के थक्के मामलों में रक्त प्लेटलेट्स के निम्न स्तर और रक्त के थक्कों के गठन सहित बहुत ही दुर्लभ जोखिम पाए गए. यह एक सिंड्रोम का कारण बनता है जिसमें जॉनसन वैक्सीन प्राप्त करने के दो सप्ताह के भीतर रक्त के थक्के बनते हैं और लक्षण दिखाई देने लगते हैं. इन्हीं कारणों से जॉनसन का टीकाकरण रोक दिया गया है. जॉनसन एंड जॉनसन वैक्सीन को पिछले साल फरवरी में आपातकालीन उपयोग के लिए अधिकृत किया गया था.

एफडीए के सेंटर फॉर बायोलॉजिक्स इवैल्यूएशन एंड रिसर्च के निदेशक पीटर मार्क्स ने कहा कि, “हमारी कार्रवाई इस टीके के उपयोग के बाद टीटीएस के जोखिम के हमारे अभिनव विश्लेषण को दर्शाती है और कुछ व्यक्तियों के लिए टीके के उपयोग को सीमित करती है. ।

मार्क्स ने आगे कहा कि FDA जॉनसन COVID-19 वैक्सीन और उसके उपयोग के बाद TTS की घटना की बारीकी से निगरानी कर रहा है और सबूतों को संशोधित करने के लिए अपनी सुरक्षा निगरानी प्रणालियों से नवीनतम जानकारी का उपयोग किया है.

इस साल 18 मार्च तक, एफडीए और यूएस सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) ने 60 पुष्ट टीटीएस मामलों की पहचान की है, जिनमें नौ मौतें शामिल हैं.

आपको बता दें कि टीटीएस के मामले आमतौर पर टीकाकरण के एक या दो हफ्ते बाद शुरू होते हैं. लक्षणों में सांस की तकलीफ, सीने में दर्द, पैर में सूजन, लगातार पेट में दर्द, सिरदर्द या धुंधली दृष्टि जैसे न्यूरोलॉजिकल लक्षण और टीकाकरण की जगह से परे पेटीचिया नामक त्वचा के नीचे लाल धब्बे शामिल हैं.

यह भी पढ़ें:

Delhi-NCR में बढ़े कोरोना के केस, अध्यापक-छात्र सब कोरोना की चपेट में, कहीं ये चौथी लहर का संकेत तो नहीं

IPL 2022 Playoff Matches: ईडन गार्डन्स में हो सकते हैं आईपीएल 2022 के प्लेऑफ मुकाबले, अहमदाबाद में होगा फाइनल

 

SHARE

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर