Thursday, February 2, 2023
spot_img

Time मैगज़ीन के पर्सन ऑफ द ईयर बने यूक्रेनी राष्ट्रपति जेलेंस्की

नई दिल्ली : यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की को विश्व प्रसिद्ध पत्रिका टाइम ने पर्सन ऑफ द ईयर 2022 बनाया है. बता दें, हर साल टाइम्स पत्रिका दुनिया भर से किसी को ये खिताब देती है जहां मैगजीन ने अपने ताजा अंक में राष्ट्रपति जेलेंस्की को कवर पेज पर स्थान दिया है. गौरतलब है कि पिछले 10 महीनों से रूस के खिलाफ विरोध की प्रखर आवाज़ के रूप में जेलेंस्की उभरे हैं. लगभग 10 महीनों से चल रहे यूक्रेन रूस के युद्ध में उन्होंने अपने धैर्य और गंभीरता का परिचय दिया है. इसी के बल पर अपनी देश से कई गुना ज़्यादा बड़ी रूसी सेना के आगे आज भी यूक्रेन टिका हुआ है. इस युद्ध में जेलेंस्की अपने देश की सेना के साथ कदम से कदम मिलाकर खड़े हैं.

देश के साथ डटकर खड़े हैं जेलेंस्की

इन 10 महीनों में कई बार जेलेंस्की ने अंतरराष्ट्रीय मंचों पर यूक्रेन की आवाज को बुलंद किया है. इतना ही नहीं वह यूक्रेन पर युद्ध थोपने के लिए रूसी राष्ट्रपति पुतिन की निंदा करने से भी पीछे नहीं हटते. टाइम्स ने उनके बारे में लिखा है, अपनी सुरक्षा की परवाह न करते हुए राष्ट्रपति जेलेंस्की ने खुद को पूरी तरह से युद्ध में झोंक रखा है. जेलेंस्की लगातार सैनिकों के बीच जाते हैं और ट्रेन से सफर करते हैं. इस सफर के दौरान भी वह जंग पर नज़र बनाए रखते हैं. मैगज़ीन ने जेलेंस्की के खेरासन दौरे का भी ज़िक्र किया है. यूक्रेन के सैनिकों ने हाल ही में इसे रूसी सेना से आज़ाद करवाया था.

कॉमेडियन से राष्ट्रपति तक

अंतरराष्ट्रीय मंचों पर भी जेलेंस्की मजबूती से अपने देश की पैरवी करते हैं और अपना पक्ष रखते हैं. इस साल उन्होंने बाली में जी-20 सम्मेलन को संबोधित किया था. इतना ही नहीं वह दावोस में वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम और मैड्रिड में नाटो देशों के सम्मेलन को भी संबोधित कर चुके हैं. टाइम पत्रिका में बताया गया है कि कैसे जंग की शुरुआत के पहले हफ्ते में जेलेंस्की ने यूरोपियन पार्लियामेंट को संबोधित किया था. उनका ये संबोधन बेहद भावुक था. उन्होंने इस दौरान कहा थे कि – “साबित करिए कि आप हमें जाने नहीं दोगे. साबित करो कि तुम वास्तव में यूरोपीय हो, और तब जीवन मृत्यु पर विजय प्राप्त करेगा, और प्रकाश अंधकार पर विजय प्राप्त करेगा. ” बता दें, राष्ट्रपति से पहले जेलेंस्की एक नामी कॉमेडियन थे. जहां एक शो के बाद उनका नाम चर्चा में आया. चुनाव लड़ने के बाद उनकी जीत हुई और वह राष्ट्रपति बन गए.

भारत जोड़ो यात्रा में राहुल गाँधी ने छत पर खड़े बीजेपी कार्यकर्ताओं को दी फ्लाइंग किस

जानिए बाबरी के अलावा दुनिया के 5 मस्जिदों के संदर्भ में, जो दूसरे धर्मों के ‘मंदिरों – पूजा स्थलों’ को ध्वस्त कर इबादतगाह के लिए खड़े किए गए

Latest news