नई दिल्ली. नार्थ अमेरिका के इंडियाना में एक रिटायर हो चुके फर्टिलिटी डॉक्टर जिसने अपने स्पर्म का इस्तेमाल करके दर्जनों महिलाओं को गर्भवति किया था उसने गुनाह कबूल करते हुए गुरुवार को अपना मेडिकल लाइसेंस राज्य बोर्ड को जमा करा दिया. राज्य बोर्ड ने उससे ऐसा करने के लिए कहा था. डॉक्टर डोनाल्ड क्लाइन ने जब अपना एक्सपायर हो चुका लाइसेंस जमा कराया तो इंडियन मेडिकल लाइसेंसिंग बोर्ड के पैनल के 7 सदस्यों ने मांग की कि 79 साल के डॉक्टर को दोबारा लाइसेंस के लिए अप्लाई करने पर प्रतिबंध लगा दिया जाए.

इंडियाना की सुपरवाइजिंग डिप्टी एटर्नी जनरल लौरा लोज ने बोर्ड के 7 सदस्यों से कहा था कि वह डॉक्टर के गुनाह को ठीक से जान कर फैसला करें. उन्होंने कहा कि ये हरकत बदतर है, ऐसे में जरुरी है कि डॉक्टर क्लाइन दोबारा ऐसा कोई काम न कर सकें. डॉक्टर क्लाइन अपने इस काम की वजह से अब तक लगभग 20 बच्चों का पिता बन चुका है.

साल 2009 में अपने काम से रिटायर हो चुके क्लाइन को दिसंबर में न्याय में बाधा डालने के लिए एक साल के लिए निलंबित कर दिया गया था. क्लाइन प्रजनन से जुड़ी समस्याएं लेकर आईं महिलाओं को अपने स्पर्म की मदद से गर्भ धारण कराता था और कहता था कि स्पर्म डोनर कोई गुमनाम इंसान है.

क्लाइन पर कोई और चार्ज नहीं लगाया गया है क्योंकि इंडियाना के कानून के अनुसार फर्टीलिटी डॉक्टरों को अपना स्पर्म प्रय़ोग करने पर प्रतिबंध नहीं लगाता है. जांचकर्ताओं से झूठ बोलने के लिए क्लाइन पर चार्ज लगाया गया है और तीन साल की कैद की सजा दी गई है.

उन्‍नाव रेप-मर्डर केस: गवाह की मौत के बाद बगैर पोस्टमार्टम शव दफनाया, राहुल गांधी ने जताया शक

आपके दरवाजे तक सब्जी और दूध पहुंचाने के लिए मुकेश अंबानी समेत दुनियाभर की कंपनियां ढूढ़ रही हैं पार्टनर

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App