बैंकॉक. थाईलैंड की थाम लुआंग गुफा में फंसी फुटबॉल टीम के सभी 13 सदस्यों को मंगलवार को 17वें दिन बाहर निकाल लिया गया. गुफा से बाहर निकाले जाने के बाद बच्चों को अस्पताल में उपचार के लिए भर्ती करा दिया गया था. इसके बाद थाई गवर्नमेंट के घटना कमांड प्रेस सेंटर ने हॉस्पीटल में एडमिट बच्चों का वीडियो शेयर किया है. इस वीडियो में सभी बच्चे बैड पर नजर आ रहे हैं और नर्सें उनका उपचार कर रही हैं.

सिडनी मॉर्निंग हेराल्ड के साउथ-ईस्ट एशिया कॉरेस्पॉन्डेंट जेम्स मसोला ने बच्चों की दो वीडियो ट्वीट की हैं. दूसरे वीडियो में बच्चों के परिजन उन्हें दूर से ही देख रहे हैं. शायद अस्पताल में बच्चों के बैड तक पहुंचने की उन्हें इजाजत नहीं है. इसमें सभी परिजनों के चेहरे पर संतुष्टि के भाव नजर आ रहे हैं. अंदर से बच्चे अपनी मांओं को हाथ हिलाकर हाय कर रहे हैं वहीं मां और उनके पिता भी इसी तरह की प्रतिक्रिया दे रहे हैं. वीडियो बनाए जाने के दौरान कुछ बच्चे बेड पर बैठे हैं और कुछ बच्चे लेटे हैं.

फुटबॉल की अंडर 16 टीम के 12 बच्चे और कोच 23 जून को थाम लुआंग गुफा देखने गए थे. इसके बाद भारी बारिश के चलते गुफा में पानी आ गया और ये सभी सदस्य अंदर ही फंस गए. कई दिन तक उनकी खोजबीन की गई लेकिन कोई सुराग नहीं मिल पाया. इसके बाद 9 दिन बाद दो ब्रिटिश गोताखोरों ने इन सभी का पता निकाला था. इसके बाद एक वीडियो सामने आया था जिसमें कोच सहित सभी 13 लोग गुफा में एक ऊंचे स्थान पर बैठे हैं. कठिन समय में भी इतने दिन संघर्ष करने वाले टीम के इन सदस्यों को ब्रिलियंट 13 नाम दिया गया है.

बच्चे गुफा के मुख्य निकास द्वार से 3.2 किलोमीटर दूर फंसे थे. बीच में संकरा रस्ता इन्हें निकालने के अभियान में सबसे बड़ी रुकावट था. दुनियाभर के 90 गोताखोर थाई शील के साथ बचाव अभियान में लगे थे. इस अभियान में लगे एक पूर्व सैनिक की मौत हो गई थी. वे इन्हें रसद देकर लौट रहे थे. लौटते वक्त ऑक्सीजन की कमी से वे बेहोश हो गए और उनकी मौत हो गई.

थाईलैंड की गुफा में फंसे बच्चों को बचाने में भारतीय कंपनी ने इस तरह से की मदद

Thailand Cave Rescue Highlights: ऑपरेशन थाईलैंड सफल, सारे बच्चे और कोच गुफा से सेफ निकले, डॉक्टर और कमांडो भी लौटे

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App