लंदनः पगड़ी पहनने की वजह से एक सिख लॉ स्टूडेंट को नाइटक्लब से बाहर निकाल दिया गया. 22 साल के अमरीक ने बताया कि मुझे धार्मिक पगड़ी पहनने के चलते बार से बाहर निकलने का आदेश दिया गया. उसने बताया कि बाउंसर को लाख समझाने के बाद कि ये पगड़ी ना केवल उसके बालों को बचाती है बल्कि धार्मिक भावनाओं से भी जुड़ी है उन्होंने उसकी कोई बात नहीं मानी और उसे खींचकर बाहर निकाल दिया.

अमरीक ने अपनी फेसबुक पोस्ट पर लिखा कि मैं इस घटना से काफी व्यथित हूं कि मुझे बार से केवल इसलिए बाहर निकाल दिया गया क्योंकि मेरे से धर्म से जुड़ी पगड़ी उतारने से मना कर दिया था. अमरीक ने आगे बताया कि जब बाउंसर ने उसे पगड़ी उतारने को कहा तो उसके उन्हें समझाया कि उसे सार्वजनिक रूप से पगड़ी पहनने की इजाजत है.

उसने बताया पगड़ी ना सिर्फ सिर औऱ बालों को बचाती है बल्कि यह उसकी धार्मिक भावनाओं से भी जुड़ी है इसलिए वह पगड़ी नहीं उतार सकता. लाख समझाने के बाद भी बाउंसर ने उसकी एक नहीं सुनी और उसे खींचकर बार से बाहर निकाल दिया. घटना पर भारी दुख जताते हुए उसने कहा कि ये वाकई व्यथित करने वाला है कि मुझे मेरे धार्मिक विचारों की से बाहर निकाल दिया गया. वहीं इस मामले पर प्रबंधन ने माफी मांगते हुए कहा है कि जो भी इसमें शामिल थे उनकी जांच की जाएगी.

यह भी पढ़ें- ब्रिटेन में भारतीय मूल के सिख पर नस्लीय हमला, हमलावर ने पगड़ी उतार कर कहा मुस्लिम गो बैक

एक उबर यात्री ने सिख ड्राइवर पर तानी बंदूक, कहा- मुझे पगड़ी वालों से नफरत है

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App