नई दिल्ली. अंतराष्ट्रीय मंचों पर अपनी जमकर तारीफ करने वाली पाकिस्तान की इमरान खान सरकार दुनियाभर में फैल रहे कोरोना वायरस के हाहाकार में चीन में फंसे अपने छात्रों को बचाने के लिए भी सक्षम नहीं है. इसका ताजा उदाहरण है पाकिस्तानी छात्रों की मदद मांगते हुए सोशल मीडिया पर वीडियो और उनके परिवारों का पाकिस्तान में सड़कों पर उतरकर विरोध. सिर्फ आम लोग ही नहीं, इस्लामाबाद हाईकोर्ट भी पाकिस्तान सरकार से चीन में फंसे बच्चों को वापस लेने की बात कह चुका है. इस सबके बावजूद भी पाकिस्तान की पीटीआई सरकार अपने देश के छात्रों को बचाने के लिए किसी भी तरह का कदम उठाने के लिए तैयार नहीं है.

पाकिस्तान सरकार से इस्लामाबाद हाईकोर्ट ने जब फंसे छात्रों को वापस देश लाने के फैसले पर विचार करने लिए कहा तो सरकार ने कुछ अजीब तर्क अदलात में दिए. इमरान खान सरकार ने कहा कि दुनिया के 194 मुल्कों में से सिर्फ 23 देशों ने ही अपने नागरिकों को चीन से वापस बुलाया है.

हाईकोर्ट ने सरकार के जवाब पर कहा कि 23 देश अपने नागरिकों को वापस बुलाने का इंतजाम कर सकते हैं तो पाकिस्तान क्यों नहीं. इसके साथ ही कोर्ट ने एक याचिका पर सुनवाई के दौरान यह भी कहा कि पड़ोसी देश बांग्लादेश जब अपने नागरिकों को चीन से निकाल सकता है तो पाकिस्तान अपने छात्रों को क्यों नहीं ला सकता है.

पाकिस्तान में इमरान खान सरकार के खिलाफ सड़कों पर छात्रों के परिवार

पाकिस्तान सरकार का अपने देशवासियों को लेकर इस तरह का रवैया वहां के लोगों में भी गुस्सा पैदा कर रहा है. पिछले कई दिनों से पाकिस्तान के बड़े शहरों में फंसे छात्रों के परिवार और लोग एक साथ मिलकर सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करते हुए अपने बच्चों को वापस बुलाने की अपील कर रहे हैं. हालांकि, अभी तक इमरान खान सरकार इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं कर रही है. अब पाकिस्तान के छात्र चीन में कितने दिन फंसे रहेंगे, इसका जवाब खुद सरकार के पास नहीं.

Congress Slams BJP Donald Trump Visit: डोनाल्ड ट्रंप की भारत यात्रा को लेकर तैयारियों पर कांग्रेस ने भाजपा को घेरा, अधीर रंजन चौधरी बोले- अमेरिकी राष्ट्रपति भगवान नहीं

Donald Trump India Visit: भारत ने जब अच्छा व्यवहार नहीं किया तो गुजरात क्यों आ रहे हैं डोनाल्ड ट्रंप?

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App