टोक्यो. जापान में एक महिला की सनक ने 20 लोगों की जान ले ली. दरअसल पेशे से नर्स रही ये महिला अपनी शिफ्ट में किसी मरीज की मौत नहीं देखना चाहती थी. मौत पर नियंत्रण के लिए वह मरीजों के ड्रिप में कीटनाशक मिला देती थी. 31 साल की अयुमी कुबोकी को शनिवार को 88 वर्षीय मरीज के मर्डर के आरोप में गिरफ्तार किया गया था. ये हत्या साल 2016 में टोक्यो के एक अस्पताल में की गई थी.

लेकिन उसने खुद पुलिस को बताया कि उसने अब तक लगभग 20 लोगों की हत्या की है. ऐसा माना जाता है कि यह महिला 2016 से काम नहीं कर रही है. मीडिया के अनुसार कुबोकी ने पुलिस को बताया कि मरीजों से उसकी कोई निजी दुश्मनी नहीं थी. लेकिन उसने यह जरूरी कहा है कि वह अपने शिफ्ट में मरीजों की मरते नहीं देखना चाहती थी, इसलिए वह ड्रिप के जरिए मरीजों की मौत को नियंत्रित करती थी.

उसने एक मरीज के रिश्तेदार को बताया कि अगर उसकी शिफ्ट में किसी मरीज की मौत हो जाती तो वह उसके लिए दुखदायी होता. साल 2016 में हुई एक बुजुर्ग की हत्या की जांच-पड़ताल के दौरान पुलिस को अस्पताल में कॉस्मिेटिक और डिटर्जेट में इस्तेमाल होने वाले रसायन के पचास पैकेट मिले थे. ये रसायन अस्पताल में जान गंवाने वाले दो अन्य बुजुर्गों के शरीर में भी मिला था.

फीस के लिए 16 बच्चियों को बेसमेंट में बंद करने की घटना को लेकर महिला आयोग ने पुलिस और सरकार को भेजा नोटिस

World Population Day: जब महात्मा गांधी ने नर्स की जगह करवाई खुद अपने बच्चे की डिलीवरी

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App