नई दिल्ली. PM Narendra Modi Speech In The Royal University Of Bhutan: भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो दिवसीय दौरे पर शनिवार को पड़ोसी देश भूटान पहुंचे. अपने दौरे के अंतिम दिन पीएम मोदी रविवार सुबह द रॉयल यूनिवर्सिटी ऑफ भूटान गए, जहां पर उन्होंने छात्रों को संबोधित किया और कहा कि भूटान भारत का पड़ोसी देश है और यह हमारा सौभाग्य है कि दोनों देश साथ में आगे बढ़ रहे हैं. पीएम ने कहा कि भारत भूटान के साथ ऊर्जा समेत कई क्षेत्रों में साथ काम कर रहा है और सबसे बड़ी ऊर्जा यहां के लोग हैं.

दो दिवसीय दौरे के आखिरी दिन पीएम मोदी थिंपू स्थित द रॉयल यूनविर्सिटी में छात्रों से मिलने पहुंचे. प्रधानमंत्री ने यूनिवर्सिटी के छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि भूटान आने वाल हर कोई यहां कि प्राकृतिक सुंदरता से उतना ही प्रभावित होता है जितना कि यहां के लोगों की गर्मजोशी और सादगी से होता है.

पीएम ने आगे कहा कि यह स्वाभाविक है कि भूटान और भारत के लोग एक-दूसरे के साथ बहुत अपनेपन के भाव को महसूस करते हैं. उन्होंने कहा कि ऐसा सिर्फ हमारे भूगोलिक तौर पर ही नहीं है बल्कि हमारे इतिहास, संस्कृति और आध्यात्मिक परंपराओं ने यहां के लोगों और दोनों राष्ट्रों के बीच अनोखे और गहरा संबंध बना लिया है.

भारत में दुनिया की सबसे बड़ी स्वास्थ्य सेवा योजना, आयुष्मान भारत का घर है. यह योजना 500 मिलियन भारतीयों को अच्छे स्वास्थ्य का आश्वासन देती है. भारत में दुनिया की सबसे सस्ती डेटा कनेक्टिविटी है, जो प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से लाखों लोगों को सशक्त बना रही है.

पीएम मोदी ने अपनी किताब ‘एग्जाम वॉरियर्स’ का जिक्र करते हुए कहा कि इस में जो कुछ लिखा है, वह भगवान बुद्ध की शिक्षाओं से प्रभावित है. किताब में विशेष रूप से सकारात्मकता का महत्व, भय पर काबू पाने और एकता में रहने, वर्तमान समय के साथ हों या फिर प्रकृति मां के साथ हों. ये सब चीजेंभगवान बुद्ध की शिक्षाओं से प्रभावित हैं.

आगे पीएम मोदी ने कहा कि भूटान ने सद्भाव, एकजुटता और करुणा की भावना को समझा है और इसकी शुरुआत यहां के बच्चों से होती है. बच्चों ने जिस तरह लाइन में खड़े होकर कल मेरा स्वागत किया वह बहुत अच्छा लगा. मैं हमेशा इन बच्चों की मुस्कुराहट को याद रखूंगा.

Syed Akbaruddin on Article 370 in United Nations: संयुक्त राष्ट्र में भारत के प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन बोले- आर्टिकल 370 भारत का अंदरुनी मामला, पाकिस्तानी पत्रकार को दिया करारा जवाब

Jammu Kashmir Relaxation: जम्मू कश्मीर में बहाल हो सकती है सामान्य नागरिक सेवाएं, जुमे की नमाज के बाद होगा फैसला, राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने दिए निर्देश

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App