नई दिल्ली. अमेरिका दौरे पर गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संयुक्त राष्ट्र महासभा ( PM Modi at UNGA ) को संबोधित किया. पीएम मोदी ने संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76 वें अधिवेशन को संबोधित करते हुए कहा, ये सुनिश्चित किया जाना जरूरी है कि अफगानिस्तान की धरती का इस्तेमाल आतंकवाद फैलाने के लिए न हो या फिर वहां आतंकवादी घटना न हो. हमें इसे बात के लिए भी सतर्क रहना होगा कि वहां की नाजुक स्थितियों का कोई देश अपने स्वार्थ के टूल की तरह इस्तेमाल न करे.

उन्होंने आगे कहा, ‘जो देश आतंकवाद का राजनीतिक टूल के रूप में इस्तेमाल करता है वो भूल रहा है कि आतंकवाद उनके लिए भी उतना ही बड़ा खतरा है. इस वक्त अफगानिस्तान की जनता, महिलाओं, बच्चों और अल्पसंख्यकों की मदद की जरूरत है और इसमें हमें अपना दायित्व निभाना होगा.’ 

पीएम मोदी के भाषण की बड़ी बातें-
-100 साल की सबसे बड़ी महामारी से आओ मिलकर करें सामना.
-दुनिया भर के वैक्सीन निर्माता इस महामारी का मुकाबला करने के लिए वैक्सीन बनाने हेतु हमारे यहां आइये.
-लोकतंत्र की हमारी हजारों वर्षों की महान परंपरा और इसके जरिए हासिल कर सकते हैं विकास का लक्ष्य.
-आतंकवाद फैलाने वाले भूल रहे हैं कि यह उनके लिए भी बहुत बड़ा खतरा है.
-अफगानिस्तान की धरती का इस्तेमाल आतंकवाद फैलाने के लिए न हो.
-समंदर का जरूरत के लिए प्रयोग हो दुरुपयोग नहीं.

चीन पर भी साधा निशाना

चीन पर निशाना साधते हुए पीएम मोदी ने कहा, ‘समुद्र हमारी साझी विरासत है. इसलिए हमें ध्यान रखना होगा कि समुद्र के संसाधनों का प्रयोग करें इसका दुरुप्रयोग नहीं. समुद्र अंतरराष्ट्रीय व्यापार की लाइफलाइन है और इसे विस्तारवाद की लड़ाई से बचना होगा. इसे बचाने के लिए अंतरराष्ट्रीय नियमों के अनुसार अंतरराष्ट्रीय समुदाय को आवाज उठानी होगी.’ 

 

यह भी पढ़ें :

Congress : युवा चेहरों पर कांग्रेस की नजर, कन्हैया और जिग्नेश 28 सितंबर को हो सकते हैं शामिल

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर