नई दिल्ली: पाकिस्तान इन दिनों अबतक के सबसे बड़े आर्थिक सकंट से जूझ रहा है. हालत ये है कि जितना टैक्स कलेक्शन वहां हर साल होता है उसमें से आधा पैसा सिर्फ लोन की किश्तें जमा करने में निकल जाता है. एक वक्त तक पाकिस्तान का कर्ज 6 हजार बिलियन यानी करीब 285 लाख करोड़ रूपये था जो अब बढ़कर 30 हजार बिलियन यानी 14.25 लाख करोड़ तक पहुंच गया है. डॉलर के मुकाबले पाकिस्तानी रूपये की कीमत 153.25 पैसे तक पहुंच गई है. इसका मतलब ये हुआ कि अगर पाकिस्तान को एक अमेरिकी डॉलर चाहिए तो बदले में उसे 153.25 पाकिस्तानी रूपये देने होंगे.

यही वजह है कि पाकिस्तान को बाहर से सामान आयात करना काफी महंगा पड़ रहा है जिससे देश में खाने-पीने की चीजों से लेकर पेट्रोल-डीजल के दाम में बेतहाशा वृद्धि हो रही है. पाकिस्तान में पेट्रोल की कीमत 112.68 रुपये प्रति लीटर है जबकि डीजल 126.82 रुपये प्रति लीटर है. देश की आर्थिक विकास दर 1.4 फीसदी तक आ गई है वहीं लार्ज स्केल मैनुफैक्चरिंग माइनस 2 फीसदी चली गई है. पाकिस्तान का सर्विस सेक्टर भी 4.7 फीसदी की रफ्तार से रेंग रहा है. पैसों के लिए पाकिस्तान आईएमएफ के पास पहुंच गया है. इंटरनेशनल मॉनेट्री फंड से पाकिस्तान 6 बिलियन डॉलर का बेलआउट पैकेज मांग रहा है जिसके लिए वो आईएमएफ की हर शर्त मानने को तैयार है.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान जनता से अपील कर रहे हैं कि वो 30 जून तक अपनी चल और अचल संपत्तियों की जानकारी दे दे. यही नहीं इमरान खान ने कहा है कि अगर 30 तारीख के बाद भी बेनामी संपत्ति का खुलासा नहीं किया गया तो उनकी सरकार के पास वो सारे आंकड़े और जानकारी है कि किसके पास कितनी बेनामी संपत्ति है. इमरान खान का कहना है कि इस स्कीम के तहत जमीन को छोड़कर बाकी पैसा वैध हो जाएगी जिसपर आपको चार फीसदी टैक्स देना पड़ेगा. इसके अलावा ये पैसा पाकिस्तान के बैंकों में ही रखना होगा और अगर कोई पाकिस्तान में पैसा ना रखना चाहे तो उसे 6 फीसदी टैक्स देना होगा.

PM Narendra Modi Bishkek SCO Summit LIVE Updates: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एससीओ शिखर सम्मेलन के लिए किर्गिस्तान पहुंचे, बिश्केक एयरपोर्ट पर भव्य स्वागत

Pakistan Ad on Abhinandan Capture Social Media Reaction: वर्ल्ड कप मैच से पहले कैप्टन अभिनंदन वर्तमान पर पाकिस्तानी चला रहे बेहुदा विज्ञापन, लोग बोले- औकात भूल गया Pak

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App