वाशिंगटन. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान कल ही अमेरिका के दौरे पर पहुंचे. इमरान की किरकिरी करने में अमेरिकी प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रंप ने भी कोई कसर बाकी नहीं रहने दी. पहले तो इमरान खान को एयरपोर्ट पर कोई रिसीव करने ही नहीं आया. उन्हें एयरपोर्ट बस लेकर जाना पड़ा. याद कीजिए भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आगवानी के लिए ट्रंप दंपत्ति खुद एयरपोर्ट पर मौजूद था. इसके बाद एक सभा को संबोधित कर रहे इमरान खान को उस वक्त रुक जाना पड़ा जब बलूचिस्तान समर्थक प्रदर्शनकारियों ने उनके विरोध में नारेबाजी शुरू कर दी.बता दें कि ट्रंप से मुलाकात के लिए इमरान खान पाकिस्तानी आर्मी चीफ कमर जावेद बाजवा और आईएसआई चीफ असीम मुनीर के साथ अमेरिका दौरे पर पहुंचे हैं. पाकिस्तान के इतिहास में ये पहला मौका है जब वहां के प्रधानमंत्री के साथ ये दोनों प्रमुख सैन्य कमांडर व्हाइट हाउस गए हों.

दुनिया में आतंकवाद का पर्याय बन चुका पाकिस्तान FATF के बैन को लेकर डरा हुआ है. अक्टूबर में FATF यानी फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स की बैठक होनी है जिसमें पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट से ब्लैक लिस्ट में डालने का फैसला होना है. मार्च में पाकिस्तान ग्रे लिस्ट में डाल दिया गया था और उसे आतंकी मदद रोकने के लिए एफएटीएफ की ओर से 27 टारगेट दिए गए थे. जून में हुई बैठक में पाकिस्तान की ओर से उठाए गए कदमों को नाकाफी बताया गया. जिससे पाकिस्तान पर अक्टूबर में ब्लैकलिस्ट होने का खतरा बढ़ गया है. अगर एफएटीएफ ब्लैकलिस्ट कर देता है तो अंतरराष्ट्रीय मदद बड़े पैमाने पर पाकिस्तान को मिलनी बंद हो जाएगी. आर्थिक संकट से जूझ रहे पाकिस्तान पर इससे दिवालिया होने का खतरा बढ़ जाएगा.

इमरान खान का हुआ विरोध
वाशिंगटन डीसी में एक कम्युनिटी प्रोग्राम में पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान के भाषण के दौरान बलूचिस्तान समर्थक प्रदर्शनकारियों ने इमरान खान के भाषण के दौरान नारेबाजी की. बलूचिस्तान में पाकिस्तान द्वारा किए जा रहे मानवाधिकार उल्लंघन का नारा लगाते हुए प्रदर्शनकारियों ने बलूचिस्तान की आजादी के नारे लगाए. इमरान खान की यात्रा का अमेरिका में कई जगह विरोध हो रहा है. देखें वीडियो

इमरान खान को एयरपोर्ट पर रिसीव करने भी कोई अमेरिकी नेता, अधिकारी नहीं आया. इसके बाद इमरान खान एयरपोर्ट की बस से बाहर निकले और मेट्रो से गए.

अमेरिका दौरे पर पहुंचे इमरान खान के साथ ये क्या हो रहा है, एयरपोर्ट पर कोई लेने नहीं आया तो अपने मंत्रियों के साथ मेट्रो से होटल पहुंचे पाक PM

जनवरी 2018 में डोनाल्ड ट्रंप ने ट्वीट किया था- “अमेरिका ने पिछले 15 साल में पाकिस्तान को 33 बिलियन डॉलर से अधिक की मदद देकर बेवकूफी की. उन्होंने हमसे झूठ बोलने और धोखा देने के अलावा कुछ नहीं दिया. उनकी नजर में हमारे नेता मूर्ख हैं. जिन आतंकवादियों को हम अफगानिस्तान में खोजते रहते हैं वो उन्हें सुरक्षित पनाहगाह मुहैया कराते हैं.”इसके बाद अमेरिका ने पाकिस्तान को दी जाने वाली सुरक्षा मदद में 2 बिलियन डॉलर की कटौती की. इस कटौती में सैन्य मदद के 300 मिलियन डॉलर भी शामिल थे. अब भी पाकिस्तान के लिए संकेत अच्छे नहीं हैं. इमरान खान की अमेरिका यात्रा से ठीक पहले अमेरिकी कांग्रेस की एक रिपोर्ट सामने आई है. इसके मुताबिक, जब तक पाकिस्तान आतंकवादी संगठनों के खिलाफ कोई ठोस कार्रवाई नहीं कर लेता है तब तक अमेरिका की ओर से मिलने वाली आर्थिक मदद सस्पेंड ही रहेगी.

Pakistan Imran Khan PTI On Media: पाकिस्तान में इमरान खान की पार्टी ने ट्विटर पर पत्रकारों को दिया ज्ञान, मीडिया अपना काम करे दुशमन के हाथ का खिलौना न बनें

India Interrogation Request UK Dawood Ibrahim aide Jabir Siddiq: दाऊद इब्राहिम के पाकिस्तानी गुर्गे जाबिर सिद्दीकी से पूछताछ के लिए ब्रिटेन से मंजूरी की उम्मीद में भारत, सुरक्षा एजेंसी ने सौंपा डोजियर

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App