नई दिल्ली. Pakistan Imports Life Saving Drugs From India: भारत के साथ व्यापार पर प्रतिबंध लगाए जाने के एक महीने के भीतर ही पाकिस्तान को अपनी औकात का पता चल गया है. अपने हर बयान में भारत को परमाणु हमले की धमकी दे रहे इमरान खान झोली फैलाकर भारत से जीवन रक्षक दवाओं की मांग कर रहे हैं. दरअसल हुआ ये है कि पाकिस्तान की इमरान सरकार ने हारकर भारत से जीवन रक्षक दवाएं मंगाने की अनुमति दे दी है. बीते महीने 5 अगस्त 2019 को भारत सरकार ने जम्मू कश्मीर को विशेषाधिकार प्रदान करने वाले अनुच्छेद 370 को समाप्त कर दिया था. तभी से पाकिस्तान काफी बौखलाया हुआ है. हर मोर्च पर भारत से शिकस्त खा चुके पाकिस्तान ने थक हारकर भारत के साथ अपने द्विपक्षीय व्यापर पर प्रतिबंध लगा दिया था.

पाकिस्तानी मीडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक वाणिज्य मंत्रालय ने एक वैधानिक नियामक आदेश के जरिए भारत से दवाओं के आयात एंव निर्यात को मंजूरी दे दी है. पुलावामा हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच कुछ समय के लिए व्यापारिक संबंध समाप्त हो गए थे. इस हमले के बाद भारत सरकार ने कड़ा रुख अपनाते हुए पाकिस्तान से आयातित होने वाली सभी वस्तुओं पर सीमा शुल्क बढ़ाकर 200 फीसदी कर दिया था. बीते 16 महीने में पाकिस्तान ने भारत से 36 लाख डॉलर से अधिक की कीमत के एंटी रेबीज एंटी वेनम वैक्सीन का आयात किया है.

भीषण आर्थिक तंगी से गुजर रहे पाकिस्तान की हालत पहले से ही खस्ताहाल है. ऐसे में वह किसी भी तरह का बड़ा आर्थिक झटका बर्दाश्त करने की स्थिति में नहीं है. विशेषज्ञों का मानना है कि भारत से कारोबार पर प्रतिबंध लगाकर पाकिस्तान ने अपना ही आर्थिक नुकसान किया है, क्योंकि वह बड़ी मात्रा में भारत से जरूरी वस्तुओं का आयात करता है. इसके अलावा प्याज और टमाटर के लिए भी पाकिस्तान पूरी तरह भारत पर आश्रित है. वर्ष 2018-19 के दौरान भारत ने जहां पाकिस्तान से 49.5 करोड़ डॉलर का आयात किया, वहीं 206.7 करोड़ का निर्यात किया. भारत पाकिस्तान सब्जियां, टेक्सटाइल, केमिकल, चमड़ा, लेदर और खाल का आयात करता है.

Imran Khan on Nuclear War: बदल गए पाक पीएम इमरान खान के सुर, अब कहा- परमाणु बम का इस्तेमाल पहले नहीं करेगा पाकिस्तान, भारत से जंग नहीं चाहते

Amit Shah Meeting With Jammu Kashmir Sarpanch Delegation: गृहमंत्री अमित शाह ने जम्मू कश्मीर के सरपंचों से दिल्ली में की मीटिंग, धारा 370 हटाने के बाद विकास प्लान पर चर्चा

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App