इस्लामाबादः 25 जुलाई यानी आज का दिन पाकिस्तान के लिए बड़ा दिन है. पाकिस्तान की अवाम आज अपने हुक्मरान का चुनाव करेगी. इस बार पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की पार्टी पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (PML-N), इमरान खान की पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (PTI) और बिलावल भुट्टो की पार्टी पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (PPP) के बीच कड़ा मुकाबला है. आज नेशनल असेबंली की 272 सीटों और 4 प्रांतीय विधानसभाओं के लिए वोट डाले जाएंगे.

चुनाव में तैनात 3 लाख 70 हजार से ज्यादा सैनिक
भ्रष्टाचार मामले में नवाज शरीफ और उनकी बेटी मरियम नवाज शरीफ के जेल जाने से इमरान खान को फायदा मिलने की उम्मीद जताई जा रही है क्योंकि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई और पाकिस्तानी सेना कथित तौर पर इमरान को समर्थन कर रही हैं. चुनाव में सुरक्षा के लिए 3 लाख 70 हजार से भी ज्यादा सेना के जवानों को तैनात किया गया है. साथ ही साढ़े 4 लाख से ज्यादा पुलिसकर्मी भी पोलिंग बूथों के बाहर सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखेंगे. यह पाकिस्तान के इतिहास का पहला मौका है जब आम चुनाव में इतने बड़े स्तर पर सैन्य तैनाती की गई है.

1500 आतंकी भी चुनावी मैदान में
इस बार 1500 से ज्यादा उम्मीदवार आतंकी गतिविधियों में लिप्त संगठनों से चुनावी मैदान में हैं. मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद का बेटा और दामाद भी चुनावी अखाड़े में किस्मत आजमा रहे हैं. पाकिस्तान में कुल 10,59,55,407 वोटर हैं, जिनमें 4,67,31,145 महिला वोटर और 5,92,24,262 पुरुष वोटर हैं. पिछली बार के मुकाबले 30 फीसदी अल्पसंख्यक वोटर बढ़े हैं. पाकिस्तान में कुल 36,30,000 गैर मुस्लिम वोटर हैं. इनमें 17,70,000 हिंदू, 16,40,000 ईसाई और 1,67,505 सिख वोटर हैं.

ये है सीटों का गणित
नेशनल असेंबली की 342 सीटों के साथ 4 प्रांतीय विधानसभाओं में 577 सीटें हैं. प्रांतीय स्तर पर सीटों के समीकरण पर गौर करें तो पाकिस्तान का पंजाब सबसे बड़ा प्रांत है, जहां नेशनल असेंबली की 141 सीटें और 297 प्रांतीय सीटें हैं. इसके बाद सिंध में नेशनल असेंबली की 61 सीटें और 130 प्रांतीय सीटें हैं. खैबर पख्तूनख्वा में नेशनल असेंबली की 39 सीटें और 99 प्रांतीय सीटें हैं. आखिर में बलूचिस्तान प्रांत में नेशनल असेंबली की 16 सीटें और 51 प्रांतीय सीटें हैं. फाटा में नेशनल असेंबली की 12 सीटें और इस्लामाबाद में 3 सीटें हैं.

चुनाव से पहले आतंकी हमलों में मारे गए 170 से ज्यादा लोग
यहां की नेशनल असेंबली का कार्यकाल 5 साल का होता है. इस बार चुनाव में 16 लाख से ज्यादा चुनावकर्मियों को ड्यूटी पर लगाया गया है. अभी तक चुनाव प्रचार के दौरान करीब 170 लोग मारे जा चुके हैं. 13 जुलाई को हुए आतंकी हमले में ही 149 लोग मारे गए थे. इस बार चुनाव में प्रत्याशी वोटरों को लुभाने के लिए कहीं सड़कों पर शेर घुमाते नजर आए तो कुछ कूड़ाघर में भोजन करते. कुछ ने अपने पोस्टरों में अमिताभ बच्चन और माधुरी दीक्षित का सहारा लिया तो कुछ गटर का पानी पीते भी नजर आए.

85 हजार से ज्यादा मतदान केंद्रों पर वोटिंग
इस बार 85,307 मतदान केंद्र बनाए गए हैं. नेशनल असेंबली के लिए कुल 3,765 प्रत्याशी मैदान में हैं तो प्रांतीय विधानसभा के लिए 8,895 उम्मीदवार अपनी किस्मत आजमा रहे हैं. इस बार महिलाएं भी रिकॉर्ड स्तर पर चुनावी मैदान में हैं. 171 सीटों पर महिला उम्मीदवार हैं. सुनीता परमार के तौर पर हिंदू महिला पहली बार चुनाव लड़ रही है. 13 ट्रांसजेंडर भी चुनावी मैदान में हैं. पाकिस्तान में अभी तक कोई भी प्रधानमंत्री अपने पांच साल का कार्यकाल पूरा नहीं कर पाया है. नवाज शरीफ तीन बार प्रधानमंत्री रह चुके हैं.

Pakistan Elections 2018: पाकिस्तान चुनाव में इमरान खान, शहबाज शरीफ और बिलावल भुट्टो को चुनौती दे रहे 1500 आतंकी

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App