नई दिल्ली, पिछले दिनों पाकिस्तान के कराची में बलूचिस्तान विद्रोही संगठन से जुड़ी एक बुर्काधारी महिला द्वारा किये गए धमाके में चीन गुस्साया हुआ है. मालूम हो इस धमाके में चीन मूल के तीन नागरिकों की मौत हुई थी.

पाक से हुआ चीन नाराज़

बीते दिनों कराची विश्वविद्यालय में चीनी नागरिकों पर होने वाला ये हमला पाकिस्तान चौथी बार था. जहां आजतक हमलों के संबंध में पाकिस्तान को चेतावनी देने वाले चीन ने मित्र देश से नाराज़गी जताई है. जहां चीन ने पाकिस्तान पर से उसका भरोसा उठ जाने की बात कही है. इस मामले को खुद पाकिस्तान की सुरक्षा मामलों की संसदीय समिति ने अपनी रिपोर्ट में बताया है. सीनेट डिफेंस कमिटी के चेयरमैन मुशाहिद हुसैन ने बताया है कि ‘पाकिस्तान की सुरक्षा व्यवस्था में चीन का भरोसा खत्म हुआ है कि वह उसके नागरिकों और हितों की रक्षा कर सकेगा.’

पाक सांसद ने जताई संवेदना

पाकिस्तान न्यूज़ एजेंसी के मुताबिक पाक के साांसद मुशाहिद ने कराची में हुए अटैक के बाद पिछले सप्ताह चीनी दूतावास में जाकर मुलाकात की थी. यह मुलाकात चीनी मूल के नागरिकों के मारे जाने को लेकर शोक जताने के लिए की गई थी. पाक सांसद ने इस हमले पर कहा, ‘इस हमले ने चीन के अंदर गहरी चिंता और निराशा पैदा की है. चीनी नागरिकों पर लगातार हमले जारी हैं और पाकिस्तान की ओर से जो फूलप्रूफ सिक्योरिटी की बात कही गई है, उसे गंभीरता से लागू नहीं किया जा सका है.’

क्या हुआ था कराची में?

मंगलवार की सुबह पाकिस्तान, कराची यूनिवर्सिटी के पास एक कार में धमाका होने की खबर आयी. इस धमाके में चार लोगों की मौत समेत, तीन लोगों घायल हुए. ख़बरों की मानें तो घटना में मारे गए चारों लोग चीनी नागरिक थे. विश्वविद्यालय के कंफ्यूशियस इंस्टिट्यूट के पास हुआ था. जानकारी के मुताबिक धमाके वाली गाड़ी में सवार सभी लोग चीन के नागरिक थे. ये गाड़ी भी चाइनीज़ इंस्टीट्यूट की थी. मरने वालों में चीनी टीचर और स्टूडेंट्स भी शामिल थे.

यह भी पढ़ें:

Delhi-NCR में बढ़े कोरोना के केस, अध्यापक-छात्र सब कोरोना की चपेट में, कहीं ये चौथी लहर का संकेत तो नहीं

IPL 2022 Playoff Matches: ईडन गार्डन्स में हो सकते हैं आईपीएल 2022 के प्लेऑफ मुकाबले, अहमदाबाद में होगा फाइनल

SHARE

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर