नई दिल्लीः  न्यूक्लियर संकट पर होने वाले समिट में हिस्सा लेने के लिए नॉर्थ कोरिया के तानाशाह किम जोंग दक्षिण कोरिया पहुंच चुके हैं. जिसमें उन्होंने पैदल ही बॉर्डर पार करके दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति बान की मून से मुलाकात की. शुक्रवार को किम जोंग ने ऐतिहासिक सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए पैदल सीमा पार की है. बता दें कि किम जोंग कोरियाई युद्ध (1950-53) के खत्म होने के बाद नॉर्थ कोरिया के वो पहले शासक होंगे जिन्होंने दक्षिण कोरिया की धरती पर कदम रखा है.

किम जोंग और मून विवादास्पद परमाणु कार्यक्रम पर चर्चा कर सकते हैं. लेकिन इससे पहले ही दक्षिण कोरिया ने आशंका जताई है कि नॉर्थ कोरिया के साथ परमाणु निस्त्रीकरण पर समझौता होना मुश्किल लग रहा है. इससे पहले पिछले हफ्ते ही नॉर्थ कोरिया के तानाशाह किम जोंग ने परमाणु परिक्षण रोक देने का ऐलान किया था. उनके इस कदम का अमेरिका और दक्षिण कोरिया ने स्वागत किया था.

न्यूक्लियर संकट पर होने वाले समिट के लिए नॉर्थ कोरिया की तरफ से तानाशाह किम जोंग के साथ नौ सदस्यी प्रतिनिधिमंडल भी गया है. इससे पहले किम जोंग ने दक्षिण कोरिया में शीतकालीन ओलंपिक खेलों के दौरान भी सियोल का ऐतिहासिक दौरा किया था. इस सम्मेलन शुक्रवार को पहले सत्र के बाद दोनों देशों के नेता साथ मिलकर पौधारोपण करेंगे जिसके बाद दोनों नेता दोपहर का लंच भी साथ ही करेंगे. जिसके बाद शाम के वक्त दोनों के बीच अनौपचारिक रुप से एक संक्षिप्त वार्ता भी होगी. इस समिट के अंत में उम्मीद की जा रही है कि किम जोंग और मून एक समझौते पर हस्ताक्षर करेंगे.

उत्तर कोरियाः तानाशाह किम जोंग उन ने रोके सभी परमाणु-मिसाइल परीक्षण, डोनाल्ड ट्रंप ने कहा- गुड न्यूज

जब अपनी पत्नी मेलानिया ट्रंप का हाथ पकड़ने में चूक गए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप, सोशल मीडिया पर लोगों ने खूब लिए मजे

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App