नई दिल्ली. Nobel Peace Prize 2019: साल 2019 के नोबेल शांति पुरस्कार की घोषणा हो चुकी है और अंतरराष्ट्रीय शांति की दिशा में उल्लेखनीय भूमिका निभाने के लिए इथियोपिया के प्रधानमंत्री अबिय अहमद अली को नोबेल शांति पुरस्कार 2019 से सम्मानित किए जाने की घोषणा स्वीडिश अकैडमी ने की है. इथियोपिया के प्रधानमंत्री अबिय अहमद अली ने पड़ोसी देश इरिट्रिया से सीमा विवाद सुलझाने में अहम रोल निभाया है और अंतरराष्ट्रीय सहयोग को बढ़ावा दिया है. शुक्रवार दोपहर इथियोपिया के प्रधानमंत्री अबिय अहमद अली को नोबेल पीस प्राइज दिए जाने की घोषणा की गई.

इससे पहले मेडिकल, फिजिक्स और साहित्य के क्षेत्र में इस साल नोबेल पुरस्कार 2019 की घोषणा हो चुकी है. आपको बता दूं कि ऑस्ट्रिया के साहित्यकार पीटर हंडके को साहित्य नोबेल दिए जाने पर खासा विवाद हो रहा है. कभी नोबेल अवॉर्ड को फर्जी बताने वाले पीटर ने खुद को नोबेल दिए जाने पर खुशी जताते हुए इसे साहसिक फैसला बताया है, जिसे लेकर विवाद हो रहा है और स्वीडिश अकादमी का काफी आलोचना हो रही है.

43 वर्षीय अबिय अहमद अली अफ्रीकी देश इथियोपिया के 15वें राष्ट्रपति हैं. उन्होंने पिछले साल पीएम बनने के बाद पड़ोसी देश इरिट्रिया से वर्षों से जारी सीमा विवाद को सुलझाकर एक नजीर पेश की थी. साथ ही इथोपिया के राजनीतिक, आर्थिक और सामाजिक उत्थान की दिशा में कई उल्लेखनीय कार्य किए, जिससे उनकी पहचान अंतरराष्ट्रीय जगत में काफी बढ़ी. कंप्यूटर इंजीनियरिंग में ग्रैजुएट अबिय अहमद सेना में रह चुके हैं.

Also read ये भी पढ़ें- साहित्य का नोबेल पुरस्कार 2019 जीतने वाले ऑस्ट्रियाई साहित्यकार पीटर हंडके का विरोध क्यों, जानें वजह

इथियोपिया की प्रमुख पार्टी ओरोमो डेमोक्रेटिक पार्टी से जुड़े अबिय अहमद अली का विवादों से भी नाता रहा है. फ्री प्रेस की वकालत करने वाले इथियोपियाई पीएम अबिय अहमद अली ने बीते डेढ़ साल के प्रधानमंत्रित्व काल में महज एक बार मीडिया को संबोधित किया है. उल्लेखनीय है कि इस बार नोबेल पीस प्राइज के लिए 301 उम्मीदवारों ने खुद को नॉमिनेट कराया था, जिनमें 223 व्यक्ति और 78 संगठन हैं.

HDFC Chairman On PMC Bank Crisis: एचडीएफसी बैंक के चेयरमेन दीपक पारेख ने पीएमसी बैंक घोटाले पर दिया बड़ा बयान, कहा- सामान्य बचत का कोई तरीका नहीं, सिस्टम क्रूर और गलत

PM Narendra Modi Xi Jinping Mahabalipuram Summit Live Updates: चेन्नई पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग, आज करेंगे दूसरी अनौपचारिक मुलाकात

Indian Railway Privatisation Niti Aayog: भारतीय रेलवे ने 150 ट्रेनों और 50 रेलवे स्टेशनों के निजीकरण का फैसला किया, नीति आयोग के सीईओ की अध्यक्षता में होगा काम