नई दिल्ली/काठमांडूः राजनीतिक विवाद के चलते भारत में होने वाले BIMSTEC (बिम्सटेक) के पहले सैन्य अभ्यास ने नेपाल ना शामिल होने का फैसला लिया है. मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो बिम्सटेक देशों के सैन्य अभ्यास में नेपाली सेना के शामिल होने को लेकर विवाद हो गया जिस कारण से यह फैसला लिया गया. नेपाल की पीएम केपी शर्मा ओली ने राष्ट्रीय रक्षा बल से सैन्य अभ्यास में हिस्सा ना लेने की बात कही. जिसके बाद नेपाली सैन्य ने भारत की पहल पर बनाए गए BIMSTEC (Bay of Bengal Initiative for Multi-Sectoral Technical and Economic Cooperation) के पहले सैन्य अभ्यास से कदम पीछे खींच लिए.

काठमांडू पोस्ट की खबर मानें तो ये फैसला ऐसे समय में किया गया कि जब नेपाली सेना का एक दस्ता पुणे रवाना होने वाला था. बता दें कि सोमवार को यहां अभ्यास में शुरू होने वाला है. ऐसा माना जा रहा है कि सत्ताधारी नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी के प्रभावशाली नेताओं सहित अलग-अलग लोगों द्वारा की गई कड़ी आलोचना के बाद सरकार ने सैन्य अभ्यास को लेकर यह फैसला किया. 

आपको बता दें कि BIMSTEC (Bay of Bengal Initiative for Multi-Sectoral Technical and Economic Cooperation) एक क्षेत्रीय संगठन है जिसमें भारत, म्यांमार, श्रीलंका, थाईलैंड, भूटान और नेपाल सदस्य देशों के तौर पर शामिल हैं. पहले सभी सात सदस्यों की थल सेनाएं छह दिवसीय अभ्यास के लिए 30-30 सदस्यों का दस्ता भेजने के लिए राजी हुई थीं. लेकिन अब नेपाल ने इस मामले पर अपने कदम पीछे खींच लिए हैं. 

यह भी पढ़ें- राहुल गांधी की कैलाश मानसरोवर यात्रा: बीजेपी के हमले पर कांग्रेस का जवाब- भगवान और भक्त के बीच बाधा डालने पर पाप और श्राप लगता है

BIMSTEC Summit 2018: नेपाल में बोले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी- आतंकवाद और ड्रग्स ट्रैफिकिंग से जूझ रहे सारे देश