नई दिल्ली. पाकिस्तान की नोबेल पुरस्कार विजेता मलाला युसुफजई भी आखिरकार पाकिस्तानी लोगों द्वारा सोशल मीडिया पर काफी दिनों तक ट्रोल होने के बाद पीएम इमरान खान के कश्मीर प्रोपगैंडा का हिस्सा बन गई हैं. मलाला ने एक के बाद एक ताबड़तो़ड़ कई ट्वीट कर संयुक्त राष्ट्र से कश्मीर मामले में हस्तक्षेप की अपील की है. इस पर बीजेपी एमपी शोभा कंदलराजे ने ट्वीट कर कहा कि पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों पर हो रहे अत्याचार पर मलाला कभी क्यों नहीं बोलतीं.

बता दें कि पीएम नरेंद्र मोदी की सरकार ने जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 के प्रावधानों को खत्म करने का फैसला लिया इसके बाद से ही पाकिस्तानी पीएम इमरान खान बौखलाए हुए हैं. गत शुक्रवार को उन्होंने पीओके के मुजफ्फराबाद में एक रैली भी की  जिसमें उन्होंने काफी भड़काऊ बातें कीं. इमरान खान के इस प्रोपगैंडा में पाकिस्तानी टीम के पूर्व क्रिकेटर शाहिद अफरीदी सहित कई खिलाड़ी भी नजर आए.

तालिबान आतंकियों द्वारा स्कूल जाती मलाला को गोली मार दिया गया था जिसके बाद वह अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर चर्चा में आई थीं. मलाला ने पाकिस्तान में हाल ही में सिख लड़की का जबरन धर्म परिवर्तन कराने वाली घटना पर चुप्पी साध रखी थी. लेकिन कश्मीर मसले पर उन्होंने अपनी जुबान खोली है. जाहिर है कोई प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष दबाव भी उन पर काम कर रहा होगा. 

पढ़ें मलाला युसुफजई कैसे शामिल हुईं इमरान खान के प्रोपगैंडा में

मलाला ने अपने पहले ट्वीट में कहा- पिछले हफ्ते मैंने कश्मीर के पत्रकारों, मानवाधिकार कार्यकर्ताओं, वकीलों और छात्रों से बात की.

मलाला ने अपने दूसरे ट्वीट में कहा- मैं कश्मीर में इस वक्त रह रही लड़कियों के बारे में जानना चाहती थी. कई लोगों के प्रयास के बाद ये चीजें मेरे सामने आईं क्योंकि इस वक्त कश्मीर में संचार के सभी साधनों का ब्लैकआउट है. कश्मीर पूरी दुनिया से कट गया है और उसकी आवाज कोई सुन नहीं पा रहा है. 

मलाला ने अपने तीसरे ट्वीट में कहा- कश्मीर की तीन लड़कियों ने मुझसे कहा- कश्मीर के हालात को बताने के लिए सबसे बेहतर लफ्ज है खामोशी. हमें कुछ नहीं पता चल पा रहा कि यहां हो क्या रहा है. हम सिर्फ फौज की आवाजाही की आवाज सुन पा रहे हैं. यह बेहद डरावना है. 

मलाला ने आगे लिखा-कश्मीर के बारे में लोग बात कर रहे हैं तो हमारी भी उम्मीद जाग रही है. हम उम्मीद करते हैं कि कश्मीर में दमन का यह दौर खत्म होगा. 

मलाला ने आगे कहा- मैं इस बात से बेहद चिंतित हूं कि कश्मीर में लगभग चार हजार लोगों को कैद किया गया है. 40 दिन हो गए छात्र स्कूल नहीं गए हैं. लड़कियां घर छोड़ स्कूल जाने से डर रही हैं. 

अपने अंतिम ट्वीट में मलाला ने कहा- मैं यूएनजीए और अंतर्राष्ट्रीय नेताओं से अपील करती हूं कि कश्मीर की आवाज को सुनें और वहां के बच्चों को सुरक्षित स्कूल जाने में मदद करें. 

बीजेपी सांसद ने किया पलटवार, पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों पर जुल्म पर भी बोलें

इमरान खान क्यों हैं इतने परेशान!
बता दें कि इमरान खान ने कई मौकों पर भारत को परमाणु हमले की गीदड़भभकी दे डाली है. दुनिया के सभी अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर इमरान यह मुद्दा उठा चुके हैं लेकिन उन्हें कहीं से भाव नहीं मिला. इतना ही नहीं गुलाम कश्मीर में इमरान खान की रैली के दौरान ‘इमरान गो बैक’ के नारे भी लगे. वहीं भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह भी साफ कर चुके हैं कि अब पाकिस्तान से पीओके पर ही बात होगी.  देश की संसद में गृह मंत्री अमित शाह ने स्पष्ट किया था कि पूरा जम्मू कश्मीर (पीओके सहित) भारत का अभिन्न हिस्सा है. 

Pak PM Imran Khan Rally in Muzaffarabad PoK: पीओके के मुजफ्फराबाद में पाक पीएम इमरान खान का भड़काऊ भाषण, कहा- नरेंद्र मोदी सरकार के खिलाफ हथियार उठाएं कश्मीरी

Jitendra Singh On Partition: केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा- देश का बंटवारा आधुनिक भारत की सबसे बड़ी भूल, कुछ लोगों की महत्वकांक्षा के चलते देश बंटा

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App