लंदन. Julian Assange Wikileak Arrested: विकीलीक्‍स के संस्थापक जूलियन असांज को गिरफ्तार किया गया है. इक्‍वाडोर के दूतावास से ब्रिटिश पुलिस ने जूलियन असांज को गिरफ्तार किया. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक उन्हें जल्द से जल्द वेस्टमिनिस्टर मैजिस्ट्रेट कोर्ट में पेश किया जाएगा. मेट्रोपोलिटन पुलिस के मुताबिक जूलियन असांज को वेस्टमिनिस्टर मैजिस्ट्रेट कोर्ट की तरफ से 2012 में जारी वारंट के आधार पर हिरासत में लिया गया है. इक्वाडोर के राजदूत ने ब्रिटिश पुलिस को दूतावास में बुलाया और इसके बाद पुलिस ने जूलियन असांज को गिरफ्तार कर लिया गया. असांजे 2012 से इक्‍वाडोर दूतावास में था. 

ब्रिटिश पुलिस के मुताबिक इक्‍वाडोर की सरकार ने असांज को दी गई शरण को हटा लिया था. जिसके बाद दूतावास में इक्‍वाडोर के राजदूत ने उन्‍हें बुलाया था और वहां उन्‍होंने विकिलीक्‍स के संस्‍थापक को गिरफ्तार कर लिया. असांज ने यौन उत्‍पीड़न के मामले में स्‍वीडन प्रत्‍यर्पित होने से बचने के लिए इक्‍वाडोर के दूतावास में काफी लंबे समय से शरण ली हुई थी. 

असांज के खिलाफ वर्ष 2012 में ही गिरफ्तारी वारंट जारी किया गया था. वारंट जारी करने से पहले असांज को आत्मसमर्पण करने को कहा गया था. 47 साल के जूलियन असांज गोपनीय दस्तावेजों को सार्वजिनक का आरोप है.

असांज ने साल 2010 में बड़ी संख्या में अमेरिकी गोपनीय दस्तावेजों को सार्वजनिक कर दिया था. असांज ने स्वीडन में प्रत्यर्पण से बचने के लिए 2012 में इक्वाडोर के दूतावास में शरण ली थी. बाद में स्वीडन ने असांज पर से सेक्स अपराध से जुड़े मामले को हटा दिया था.

इक्वाडोर द्वारा असांज पर राष्ट्रपति लेनिन मोरेनो के निजी जीवन के बारे में गोपनीय जानकारी लीक करने का आरोप लगाया गया था, जिसके बाद उनके संबंध खराब हो गए. मोरेनो ने पहले कहा था कि असांज ने उनकी शरण की शर्तों का उल्लंघन किया. ऑस्ट्रेलियाई नागरिक असांज ने 2012 में लंदन के इक्वाडोर दूतावास में शरण ली थी और तब से वह वहीं रह रहा था.

इक्वाडोर के राष्ट्रपति लेनिन मोरेनो ने कहा कि उनके देश ने असांज को दी हुई शरण वापस ले ली थी. विकीलीक्स की तरफ से ट्वीट कर कहा गया है कि इक्वाडोर ने गलत तरीके से असांज को दिया आश्रय वापस ले लिया. 47 वर्षीय असांज ने दूतावास छोड़ने से मना कर दिया था. अंसाज ऐसा दावा था कि अगर ऐसा हुआ, तब उन्हें यूएस ले जाकर विकीलीक्स की गतिविधियों के बारे में पूछा जाएगा.

अमेरिका की नींद उड़ाने वाली व्हिसिलब्लोअर विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन असांज की गिरफ्तारी पूरी दनिया में चर्चा का विषय बना हुआ है. असांज को सबसे बड़ा डर इस बात का है कि कहीं स्वीडन उन्हें अमेरिका को ना सौंप दें. यूएस में गोपनीय सैन्य और कूटनीतिक दस्तावेजों को सार्वजनिक करने के अपराध में उन्हें 35 साल तक की सजा हो सकती है.

3 जुलाई 1971 को ऑस्ट्रेलिया में जन्मे जूलियन पॉल असांज विकिलीक्स के संस्थापक हैं. विकिलीक्स पर काम करने से पहले वे एक कंप्यूटर प्रोग्रामर और हैकर थे. असांजे ने वर्ष 2006 में विकीलिक्स को शुरू किया था. उन्होंने कई सरकारों और संगठनों की गोपनीय जानकारी वेबसाइट पर प्रकाशित कर दी थी. अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा तक ने उन्हें इसके खिलाफ चेतावनी दी थी.

विकीलीक्स ने इक्वाडोर के राष्ट्रपति मोरेनो के जीमेल ने अमेरिका से डील की थी कि हम असांज आपको सौंप देंगे इसके बदले आप हमारा कर्ज माफ कर दो. विकीलीक्स ने इक्वाडोर के राष्ट्रपति मोरेनो के आईफोन, व्हाट्सएप और टेलीग्राम के लीक कंटेंट के आधार पर ये सूचना जारी की गई थी जो न्यूयॉर्क टाइम्स में छापा था.

इसके जवाब में मोरेनो के संचार मंत्री जोस वोलेंनसिया ने विकीलीक्स के ट्वीट को बकवास बताते हुए कहा था कि ये सफेद झूठ है जो इक्वाडोर की गरिमा को नुकसान पहुंचाने के लिए किया गया है, उन्होंने ये भी कहा था कि इस अपमान को हम बर्दाश्त नहीं करेंगे. उन्होंने इन आरोपों पर कार्रवाई करने की बात कही थी.

Rights of voters at Polling Station: मतदाता पोलिंग बूथ पर अपने इन अधिकारों का करें इस्तेमाल, लोकसभा चुनाव 2019 के पहले चरण में जानें पूरी डिटेल्स

Sonia Gandhi Nomination Raebareli: पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने रायबरेली में नामांकन दाखिल करने के बाद कहा- 2004 न भूलें पीएम नरेंद्र मोदी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App