कराची. दो महीने बाद जब पाकिस्तान आतंकवाद को खत्म करने में नाकामयाब रहा है, इस दौरान जैश-ए-मोहम्मद का एक वीडियो जारी हुआ है. जिसमें कुछ आतंकी ईद-उल-अजहा की नमाज के बाद खैबर-पख्तुनख्वा प्रांत में चंदा इकट्ठा करते हुए दिखाई दिए. इस वीडियो में मंगलवार को बन्नू जिले के डोमेल उप-जिले में ईद की नमाज के बाद आतंकी चंदा इकट्ठा करते नजर आए. आतंकी मसूद अजहर की अगुवाई वाले प्रतिबंधित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद और अल राहत ट्रस्ट के लिए आतंकी खुले में चंदा मांगते नजर आए. आतंकी ये धन भारत और अमेरिका के खिलाफ जिहाद के लिए ये धन जुटा रहे थे.

सोशल मीडिया पर वायरल हुए इस वीडियो में आतंकी जेईएम और अल रहमत ट्रस्ट के आतंकी एंटी टेररिस्ट स्क्वॉड (एटीएस) और खैबर-पख्तुनख्वा पुलिस से कुछ दूरी पर चंदा इकट्ठा करते नजर आए. धन मांगने वाला आतंकी बार-बार करता हुआ दिख रहा है कि वह जेईएम के लिए धन इकट्ठा कर रहा है, जिसे 2002 में पाकिस्तान द्वारा प्रतिबंधित किया गया था. इस वीडियो को शूट करने वाले व्यक्ति को रोकने की कोशिश करते हुए व्यक्ति नजर आ रहा है.

इस वीडियो में आतंकी कहते हैं कि मुसलमानों को “काफिरों के नेतृत्व” के तहत नुकसान पहुंचाया जा रहा है और जेईएम मुस्लिमों के भाईचारे की रक्षा करने के लिए कार्रवाई कर रहा है. 2010 में, अमेरिका ने कहा था कि आतंकी संगठन और गतिविधियों को अफगानिस्तान और पाकिस्तान की सहायता प्रदान कर रहा है. इसके साथ उन्होंने कहा था कि जेईएम के आतंकी संगठन को ट्रेनिंग देने में भी सहायता दी जा रही है.

पॉल मैनफोर्ट मामले में ब्रेकिंग न्यूज देने के चक्कर में हवा की तेजी से भागी रिपोर्टर, देखें VIDEO

भारतीय सेना ने तोड़ी आतंकवाद की कमर, 1000 से 250 पर आ गई आतंकियों की संख्या: न्यूयॉर्क टाइम्स

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App