नई दिल्ली. इंडोनेशिया की अदालत ने मंगलवार को एक बौद्ध महिला को 18 माह की सजा सुना दी है. दरअसल उसने मस्जिद से आने वाली नमाज की तेज आवाज को लेकर शिकायत की थी जिसके बाद उसे ये सजा भुगतनी पड़ी. 44 साल की मिलीयाना चीनी बौद्ध हैं और उन्हें तेज आवाज में होने वाली नमाज को परेशान करने वाला बताया. मिलीयाना का घर मस्जिद के पास है. बता दें कि इंडोनेशिया ने मुस्लिमों की सबसे अधिक तादाद है

हाल के वर्षों में इस्लाम की रूढ़िवादी और कट्टरपंथी व्याख्याओं में वृद्धि देखी गई है, जिससे सहिष्णुता और विविधता के लिए धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र की दीर्घकालिक प्रतिष्ठा नष्ट होने की स्थिती बन रही है. मेदान जिला कोर्ट के प्रवक्ता जमालुद्दीन ने कहा कि मिलीयाना ने इस्लाम धर्म के बारे में अपमानजनक बाते कहीं थी और बाद में पछतावा दिखाते हुए माफी भी मांगी थी.

राजनीतिक कार्यकर्ताओं ने कहा है कि देश के कानूनों का उपयोग अल्पसंख्यकों को धमकाने और धार्मिक स्वतंत्रताओं का उल्लंघन करने के लिए किया जा रहा है. पिछले साल जकार्ता के पूर्व चीनी गवर्नर को कई मुस्लिम संगठनों ने इस्लाम पर टिप्पणी का आरोप लगाकर जेल भेजने की कोशिश की थी.

Video: तोहरे गलिया के पिंपल पर खेसारीलाल यादव के साथ अक्षरा सिंह ने लगाए जमकर ठुमके

हिना खान का वर्कआउट वीडियो देख फैंस ने कहा सेक्सी फिगर का मिल गया राज

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App