नई दिल्ली. भारतीय तटरक्षक बल को कथित तौर पर श्रीलंका के साथ समुद्री सीमा पर हाई अलर्ट पर रखा गया है. ये रविवार को श्रीलंका में हुए सिलसिलेवार बम धमाकों के बाद किया गया है. बताया जा रहा है कि तटरक्षक बल हाई अलर्ट पर हैं और पाल स्ट्रेट में गश्त की गतिविधियां बढ़ा दी हैं. जहाजों और समुद्री निगरानी विमान डोर्नियर को कथित तौर पर यह सुनिश्चित करने के प्राथमिक उद्देश्य के साथ तैनात किया गया है कि विस्फोटों के लिए जिम्मेदार आत्मघाती हमलावर श्रीलंका से भागने में असमर्थ रहें.

दरअसल ईस्टर के अवसर पर श्रीलंका की राजधानी कोलंबो और देश के अन्य हिस्सों में विस्फोटों की एक श्रृंखला में कम से कम 290 लोगों की मौत हो गई और 500 से अधिक घायल हो गए. जांचकर्ताओं ने कहा है कि संभावना है कि सात आत्मघाती हमलावरों ने उन हमलों को अंजाम दिया जिन्होंने विशेष रूप से चर्चों और पांच सितारा होटलों को निशाना बनाया.

श्रीलंका के मंत्री राजिता सेनारत्ने ने इस बारे में जानकारी देते हुए कहा कि इसमें शामिल सभी आत्मघाती हमलावरों के बारे में माना जा रहा है कि वो सभी श्रीलंका के नागरिक थे. संभावना जताई जा रही है कि राष्ट्रीय तौहीद जमात संगठन ने इन हमलों के संगठित करके अंजाम दिया.

भारत और विश्वभर ने हमलों की कड़ी निंदा की. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने भी पीड़ितों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त की. विस्फोटों में मारे गए कई विदेशी नागरिकों में से भारतीय भी थे. श्रीलंका में भारतीय उच्चायोग ने कहा है कि वह स्थिति की बारीकी से निगरानी कर रहा है.

इस बीच सोमवार को रात 8 बजे और मंगलवार को सुबह 4 बजे के बीच कोलंबो में एक कर्फ्यू लागू होगा. कोलंबो से उड़ान भरने वाले यात्रियों को सुरक्षा के मद्देनजर निर्धारित प्रस्थान समय से कम से कम चार घंटे पहले हवाई अड्डे तक पहुंचने की सलाह दी गई है.

Indians in Sri Lanka Blast: श्रीलंका बम धमाकों में 3 भारतीयों की मौत, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने जारी किए हेल्पलाइन नंबर

Two JDS Leader Feared Dead In Srilanka Blast: कोलंबो धमाकों में कर्नाटक के 2 जेडीएस नेताओं की मौत, 7 नेता श्रीलंका दौरे पर गए थे, 5 लापता

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App