इस्लामाबाद: पाकिस्तान के नवनिर्वाचित प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा है कि पाकिस्तान अब से किसी भी दूसरे देश की लड़ाई नहीं लड़ेगा. रावलपिंडी में पाकिस्तान सेना की ओर से आयोजित किए गए कार्यक्रम में बोलते हुए इमरान खान ने ये बात कही. उन्होंने कहा कि हमारी विदेश नीति पाकिस्तान के हित में होगी. उन्होंने आगे कहा कि ‘मैं शुरू से ही युद्ध के खिलाफ हूं और मैं वादा करता हूं कि पाकिस्तान आगे किसी दूसरे देश की लड़ाई नहीं लड़ेगा.

इस दौरान पाकिस्तान की सेना की तारीफ करते हुए इमरान खान ने कहा कि पाक सेना ने जिस तरह की लड़ाई आतंकवाद के खिलाफ लड़ी है वैसी दुनिया के किसी देश ने नहीं लड़ी. वहीं इसी कार्यक्रम में पाकिस्तानी सेना के प्रमुख जनरल बाजवा ने कहा कि 1965 और 1971 की लड़ाई से पाक सेना ने बहुत कुछ सीखा है और अब पाकिस्तान परमाणु संपन्न देश है और उसकी सैन्य ताकत भी बहुत बढ़ गई है. बाजवा ने ये भी कहा कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में पाकिस्तान की सेना ने बड़ी कीमत चुकाई है.

गौरतलब है कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री पद के शपथ ग्रहण समारोह में इमरान खान ने नवजोत सिंह सिद्धू को भी आमंत्रित किया था और सिद्धू ने बताया था कि वो इमरान खान ने उनसे कहा है कि वो दोनों देशों के बीच अमन और शांति चाहते  हैं. 

पाकिस्तानी आर्मी चीफ जनरल कमर जावेद बाजवा की भारत को धमकी- सरहद पर बहे खून का बदला लेंगे

भारत से है पाकिस्तान के नए राष्ट्रपति अारिफ अलवी का खास कनेक्शन, जवाहर लाल नेहरू के डेंटिस्ट थे पिता