रियाद. सऊदी अरब में मक्का के पास मीना में तरवियाह की रस्म के साथ हज की शुरूआत हो गई है. करीब 19 लाख 66 हजार 461 श्रद्धालु इस बार यात्रा में शामिल हुए हैं. रिपोर्ट के मुताबिक, जनरल अथारिटी फॉर स्टेटिक्स ने सऊदी प्रेस एजेंसी को बताया कि अराफत के दिन वाली शाम में कुल हाजियों की संख्या की घोषणा की जाएगी. बता दें कि अराफत हज की सबसे जरूरी रस्म है.

गौरतलब है कि हर साल लाखों श्रद्धालु हज यात्रा के लिए पहुंचते हैं. ऐसे में हज यात्रियों की सुरक्षा को देखते हुए अराफत रस्म से संबंधित सभी जगहों पर लोगों के परिवहन के लिए बेहतर सुरक्षा योजना बनाई है. वहीं हज यात्रियों की सेहत को ध्यान में रखते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय ने 25 अस्पतालों और 155 स्वास्थ्य केंद्रों का हर एक जगह पर आवंटन किया गया है, जिनकी क्षमता 180 एंबुलेंस, 100 वाहन और 5 हजार बिस्तरों की है.

बता दें कि सऊदी अरब के माउंट अराफात की पहाड़ी में सालाना हज के अंतिम चरण में मुस्लिम श्रद्धालु इकट्ठे हुए. सोमवार सुबह करीब 20 लाख लोगों ने वहां दुआ मांगी. इस्लाम में माना जाता है कि अराफात की पहाड़ी पर अगर इस दिन दुआ मांगी जाए तो इससे नए जीवन की शुरुआत होती है. सऊदी अरब के मक्का से यह स्थान करीब 20 किलोमीटर की दूरी पर है.

वहीं खबर है कि हज यात्रियों के लिए मुफ्त स्लीपिंग पॉड्स की सेवा दी जाएगी. समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, ये फ्री स्लीपिंग पॉड्स मक्का के पास मीना शहर में होंगे. बताया जा रहा है कि हर एक पॉड की लंबाई 3 मीटर कम और ऊंचाई 1 मीटर ज्यादा होगी.

Eid al-Adha 2018: जानिए इस्लाम में क्यों जरूरी है कुर्बानी, क्या है इसका इतिहास

यूपी के इस गांव में बकरीद पर नहीं काटते बकरा, होली पर नहीं होता होलिका दहन

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App