स्टॉकहोमः 2018 के रसायन विज्ञान का नोबेल पुरस्कार तीन रसायन शास्त्र के वैज्ञानिकों फ्रांसिस एच. ऑर्नल्ड (अमेरिका), जॉर्ज पी. स्मिथ (अमेरिका) और सर ग्रेगॅरी पी. विंटर (ब्रिटेन) को मिलेगा. रॉयल स्वीडिश अकैडमी ऑफ साइंसेज़ ने इसकी घोषणा की. इस दौरान
कहा गया कि इस साल जिन तीन हस्तियों को रसायन के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार के लिए चुना गया है उन्होंने एंजाइम्स, पेपटाइड्स और एंटीबॉडीज को विकसित करने के लिए क्रमिक विकास की शक्ति का इस्तेमाल किया है.

रसायन क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार विजेताओं के नामों का ऐलान करते हुए आगे कहा गया कि वैज्ञानिकों की इस खोज से नए फार्मास्युटिकल और बायोफ्यूल का निर्माण हुआ है. बताते चलें कि कैलिफॉर्निया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी की रसायन शास्त्री फ्रांसिस अरनॉल्ड को एंजाइम्स के पहले निर्देशित विकास के लिए, यूनिवर्सिटी ऑफ मिसूरी के जॉर्ज स्मिथ को प्रोटीन के विकास के नए तरीके को ईजाद करने और कैम्ब्रिज स्थित एम.आर.सी. लैबॉरेटरी एवं मॉलिक्यूलर बायोलॉजी के सर ग्रेगॅरी पी. विंटर को नई दवाइयों के उत्पादन को ध्यान में रखते हुए एंटीबॉडीज के विकास के सिद्धांत का इस्तेमाल करने के लिए नोबेल पुरस्कार दिया जा रहा है.

तीनों वैज्ञानिकों को 90 लाख स्वीडिश क्रोनर (करीब 7 करोड़ 33 लाख रुपए) का इनाम दिया जाएगा. बताया जा रहा है कि वैज्ञानिक फ्रांसिस अरनॉल्ड को इनाम की आधी राशि मिलेगी. शेष राशि दोनों अन्य वैज्ञानिकों में बांट दी जाएगी. गौरतलब है कि कैंसर के इलाज में नई थेरेपी ईजाद करने के लिए जेम्स एलिसन (अमेरिका) और तासुकु होंजो (जापान) को चिकित्सा के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार दिया जाएगा. वहीं भौतिकी के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार के लिए आर्थर एश्किन (अमेरिका), गेरार्ड मोरो (फ्रांस) और डोना स्ट्रिकलैंड (कनाडा) के नामों का ऐलान किया गया है. तीनों वैज्ञानिकों को लेजर पर नई खोज के लिए यह पुरस्कार दिया जाएगा.

फिजिक्स के नोबेल पुरस्कारों का ऐलान, ऑर्थर अश्किन, गेरार्ड मौरू और डोना स्ट्रिक्लैंड को मिला सम्मान

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App