नई दिल्ली. जापानी समाचार एजेंसी ने बताया कि गुरुवार को क्योटो में एक जापानी एनीमेशन स्टूडियो में विस्फोट और आग लगने से दर्जनों लोग घायल हो गए. विस्फोट आग लगने के कारण ही हुआ. पुलिस आग का कारण पता लगा रही थी जिसके बाद जानकारी मिली की आग जानबूझकर लगाए जाने की आशंका है. जापान के एनएचके सार्वजनिक प्रसारक ने पुलिस और बचाव दल का हवाला देते हुए 30 से अधिक लोगों के घायल होने की सूचना दी. जिनमें से कुछ के बेहोश होने और गंभीर रूप से घायल होनी की सूचना थी. 24 के मरने की पुष्टि कर दी गई है और कहा जा रहा है कि कई लोग गंभीर रूप से घायल हैं और कई लापता हैं.

स्थानिय मीडिया की रिपोर्टों के अनुसार, पुलिस ने एक 41 वर्षीय व्यक्ति को गिरफ्तार किया है. इस शख्स द्वारा जलने वाला कोई पदार्थ फैलाए जाने के बाद आग लगाने का संदेह है. ये शख्स एक अस्पताल में उपचार करवा रहा था. लगभग 10.30 बजे शुरू हुआ यह धमाका क्योटो एनिमेशन में हुआ. ये एक ऐसी कंपनी है, जो अन्य कार्यों के बीच फुल मेटल पैनिक, के-ऑन और क्लैनेड सहित शो और फिल्में बनाने के लिए जानी जाती है.

क्योटो एनीमेशन की स्थापना 1981 में योको हट्टा और उनके पति, हिडकी हट्टा द्वारा की गई थी और स्टूडियो का अधिकांश उत्पादन उस इमारत में होता है जिसमें गुरुवार को आग लगाई गई थी. इस धमाके से दो महीने से भी कम समय पहले टोक्यो के बाहर एक उपनगर में एक व्यक्ति ने 17 स्कूली छात्राओं पर चाकू से ताबड़तोड़ हमला कर दिया था जिसमें एक वयस्क की भी मौत हो गई थी. 51 वर्षीय व्यक्ति के गुस्से ने जापान के हिकिकोमोरी की घटनाओं पर ध्यान आकर्षित किया, जो वयस्क और उनके मनोवैज्ञानिक मुद्दे को उठाते हैं. एक स्थानीय टीवी स्टेशन से गुरुवार के हमले के फुटेज में तीन मंजिला इमारत की खिड़कियों से काला धुआं निकलता हुआ दिखाई दिया, जिसमें इमारत का एक हिस्सा ज्यादातर जल गया था.

SC Hearing on Ayodhya Ram Janambhoomi Case: अयोध्या राम जन्मभूमि विवाद मामले में सुप्रीम कोर्ट ने मध्यस्थता कमिटी को दिया समय, 2 अगस्त से होगी रोजाना सुनवाई

Karnataka JDS Congress HD Kumaraswamy Govt Crisis Live Updates: कर्नाटक में आज कांग्रेस-जेडीएस की एचडी कुमारस्वामी सरकार के लिए करो या मरो की स्थिति, फ्लोर टेस्ट में फेल होने पर बीजेपी के हाथ में जाएगी सत्ता ?