वॉशिंगटन: डोनाल्ड ट्रंप के राष्ट्रपति चुनाव अभियान के प्रमुख रहे पॉल मैनफोर्ट को कोर्ट ने वित्तीय अपराध के 8 मामलों में दोषी पाया है. अदालत के इस फैसले के बाद पॉल मैनफोर्ट का जेल जाना भी तय हो गया है. इस दौरान वहां के एक स्थानीय न्यूज चैनल की महिला रिपोर्टर का एक वीडियो वायरल रहा है जो इस खबर को कवर करने के लिए कोर्टरूम में मौजूद थी. जज ने मैनफोर्ट को दोषी करार दिया. जजमेंट की कॉपी हाथ में आते ही वह रिपोर्टर कोर्ट से बाहर ऐसे भागी जैसे वह किसी मैराथन का हिस्सा हों.

ब्रेकिंग न्यूज के इस दौर में सभी न्यूज चैनलों के बीच नंबर एक बने रहने की होड़ रहती है. फिर क्या वह चाहे भारत हो या अमेरिका. ब्रेकिंग न्यूज के लिए पत्रकारों को हर जद्दोजहद का सामना करना पड़ता है. इसका एक ताजा उदाहरण आज अमेरिकी कोर्ट के बाहर देखने को मिला. पॉल मैनफोर्ट मामले में जज के फैसला सुनाते ही जजमेंट की कॉपी लेकर एक महिला पत्रकार भागते हुए कोर्ट से बाहर निकली और बाहर अपने कैमरामैन के पास पहुंची. दरअसल सुनवाई के दौरान कोर्ट में किसी को भी फोन ले जाने की अनुमति नहीं होती है. इसका एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है.

क्या है पॉल मैनफोर्ट मामला?
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के पूर्व कैंपेन मैनेजर पॉल मैनफोर्ट को वित्तीय अपराध के 8 मामलों में दोषी ठहराया गया है. मैनफोर्ट को टैक्स में धोखाधड़ी के पांच मामलों, बैंक धोखाधड़ी के दो मामलों और विदेशी बैंक खाते को छुपाने के एक मामले में दोषी ठहराया गया है. ज्यूरी के सदस्य उनके खिलाफ 10 अन्य आरोपों में किसी फैसले तक नहीं पहुंच सकें और न्यायाधीश ने इन्हें मिस ट्रायल घोषित कर दिया. दोषी ठहराए जाने के बाद मैनफोर्ट को करीब 80 साल की सजा हो सकती है. फिलहाल मैनफोर्ट की सजा का ऐलान अभी नहीं किया गया है.

अमेरिका के 300 अखबारों ने डोनाल्ड ट्रंप से कहा- सच्ची खबरों को फेक न्यूज और पत्रकारों को यूएस विरोधी कहना बंद करो

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App