नई दिल्ली. महिलाओं के लिए उपलब्ध गर्भनिरोधक गोली की तरह अब पुरुषों के लिए भी गोली जल्द उपलब्ध होगी. शोधकतार्ओं ने ऐसे कम्पाउंड की खोज की है जो शुक्राणु की सक्रियता पर नियंत्रण रख सकता है. यह फर्टिलाइजेशन की क्षमता को कम कर सकता है. ये ईपी055 नामक यौगिक है जो शुक्राणु की गतिशीलता को शिथिल कर देता है और इससे हार्मोन पर भी कोई असर नहीं होता है. यह यौगिक निषेचन की क्षमता को कम कर सकता है. शोधकर्ताओं के अनुसार इस तत्व का इस्तेमाल करके पुरुषों के लिए गर्भनिरोधक गोली बनाई जा सकती है.

जर्नल पीएलओएस वन में प्रकाशित इस शोध लेख में दावा किया गया है कि इस तत्व से ‘पुरुष-गोली’ बनाई जा सकती है जो जन्म दर को नियंत्रित करने में कारगर साबित होगा और इसका कोई दुष्प्रभाव भी नहीं होगा. बता दें कि अभी पुरुषों के लिए कंडोम और नसबंदी के उपाय ही उपलब्ध हैं. इस तत्व का परीक्षण नर बंदरों पर किया गया, जिसमें कोई दुष्प्रभाव नहीं पाया गया. इसकी शोधकर्ता मेरी जेलिंस्की का कहना है कि इस तत्व के उपयोग के 18 दिन बाद सभी लंगूरों में पूरी तरह से सुधार के लक्षण पाए गए.

आपको बता दें कि दुनिया भर में हर साल अनुमानत: 5.6 करोड गर्भपात असुरक्षित तरीके से होते हैं, जिससे प्रति वर्ष कम से कम 22,800 महिलाओं की मौत हो जाती है. यह जानकारी पिछले एक दशक में वैश्विक गर्भपात ट्रेंड्स पर गुटमेचर इंस्टीट्यूट की सबसे व्यापक रिपोर्ट में दी गई है.

शहरी लड़कियों के मुकाबले गांव की लड़कियां होती हैं ज्यादा सेक्सुअली एक्टिव: रिपोर्ट

चीन में दूसरे बच्चे के लिए 35 लाख महिलाओं ने शरीर से निकलवाए गर्भनिरोधी उपकरण

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App