मिऑलीः ताइवान के मिऑली में एक तेज रफ्तार कार ने संरक्षित प्रजाति की लेपर्ड कैट को टक्कर मार दी. खून से लथपथ लेपर्ड कैट को स्थानीय लोगों ने इलाज कराने के लिए अपनी ही कॉलोनी में रहने वाले पुलिस अफसर ली चिन को सौंपा. ऑफ ड्यूटी अफसर ली चिन ने उसे बचाने की हर संभव कोशिश की और आखिरकार अपने दोस्त की मदद से लगभग मौत के मुंह में जा चुकी लेपर्ड कैट को बचा लिया गया.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, वेस्ट ताइवान के मिऑली शहर में एक तेज रफ्तार कार से टकराने के बाद संरक्षित प्रजाति की लेपर्ड कैट गंभीर रूप से घायल हो गई थी. बेहोश हो चुकी थी लेपर्ड कैट सांस भी नहीं ले पा रही थी. स्थानीय लोगों ने उसे इलाज के लिए कॉलोनी में रहने वाले पुलिस अफसर ली चिन को सौंप दिया. ली चिन ने अपने दोस्त (जानवरों का डॉक्टर) को फोन किया और इसकी जानकारी दी.

दोस्त की मदद से ली चिन ने पहले दो मिनट तक लेपर्ड कैट के दिल के पास हल्के-हल्के हाथों से दबाया. इसके बाद उसकी नाक से एक बार फिर खून निकलने लगा और सांस चलने लगी तो वह उसे लेकर फौरन अस्पताल भागे. सही समय पर इलाज मिलने से उसकी जान बच गई. डॉक्टरों ने बताया कि लेपर्ड कैट की हड्डी में कोई फ्रैक्चर नहीं है लेकिन उसे ज्यादा चोट आई है. ली चिन अगर वक्त रहते उसे यहां नहीं लेकर आते तो वह मर सकती थी.

इलाज के बाद उसे ताइवान की संस्था लेपर्ड कैट एसोसिएशन को सौंप दिया गया. बताते चलें कि ताइवान में विलुप्त होने के कगार पर पहुंच चुकी लेपर्ड कैट को बचाने के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं. देश में इनकी संख्या 500 के करीब है, जिनमें से 60 फीसदी के करीब मिऑली काउंटी इलाके में ही पाई जाती हैं. लेपर्ड कैट दिखने में आम बिल्लियों की अपेक्षा काफी बड़ी होती है. अक्सर लोग इन्हें देखकर धोखा खा जाते हैं और तेंदुआ समझ बैठते हैं.

उत्तर प्रदेशः खूंखार तेंदुए से भिड़ 55 वर्षीय बुजुर्ग ने बचाई 5 साल के पोते की जान

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App