नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की छवि आज दुनिया भर में वर्ल्ड लीडर की है. सोशल मीडिया पर उन्हें दुनिया भर के नेता फॉलो करते हैं. पीएम मोदी के ट्विटर पर 3 करोड़ से ज्यादा फॉलोअर्स हैं लेकिन डिजिटल डिप्लोमेसी पर नजर रखने वाली जेनेवा स्थित ट्विप्लोमेसी नाम की एजेंसी ने दावा किया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 60 फीसदी से ज्यादा फॉलोअर्स फेक यानी नकली हैं.

ट्विपलोमेसी ने साल 2017 में एक ब्लॉग में पीएम मोदी को विश्व का तीसरा सबसे बड़ा नेता बताया था जिन्हें ट्विटर पर 30,058, 659 लोग फॉलो करते हैं. अब उसी ट्विपलोमेसी ने अब इंफोग्राफिक्स के जरिए बताया है कि पीएम मोदी को फॉलो करने वाले सबसे ज्यादा फॉलोअर्स फेक यानी नकली हैं. ट्विपलोमेसी के मुताबिक पीएम मोदी के ट्विटर अकाउंट @narendramodi को फॉलो करने वाले 60 फीसदी फॉलोअर्स नकली हैं.

पीएम मोदी के बाद दूसरे नंबर पर पोप फ्रांसिस हैं जिनके 59 फीसदी फॉलोअर्स फेक हैं. इस लिस्ट में तीसरा नाम अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का है जिनके 37 फीसदी फॉलोअर्स नकली यानी फेक हैं. ट्विप्लोमेसी की विश्वसनीयता को लेकर कुछ लोग सवाल उठा रहे हैं लेकिन आपको बता दें कि ट्वीटर पर पीएमओ का ट्वीटर एकाउंट भी ट्विप्लोमेसी को फॉलो करता है.

ट्विप्लोमेसी के इस इंफोग्राफिक्स ने विपक्ष को भी पीएम मोदी पर निशाना साधने का मौका दे दिया है. तमिलनाडु कांग्रेस कमेटी ने ट्विप्लोमेसी का इंफोग्राफिक्स साथ डालते हुए लिखा- वाउ, ट्विटर पर फर्जी फॉलोअर्स के मामले में मोदी जी दुनिया में पहले नंबर पर हैं. कांग्रेस नेता प्रियंका चतुर्वेदी ने भी ट्वीट कर पीएम मोदी पर हमला बोला. उन्होंने लिखा- फर्जी वादे, वर्जी दूरदृष्टि और अब 60 फीसदी फर्जी फॉलोअर्स. कहना ना होगा कि हमारे पीएम इस मामले में भी नंबर वन हैं.

पढ़ें- यूपी में नकल पर सख्ती को लेकर अखिलेश यादव ने कहा- परीक्षा में सब नकल करते हैं, मैंने भी की है

जब चंद्रबाबू नायडू का हाथ खींचकर जबरदस्ती कुर्सी पर बिठाते नजर आए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App