लंदन: जेरेमी हंट को हराकर ब्रिटेन के नए प्रधानमंत्री बने ब्रिटेन की सत्ताधारी कंजर्वेटिव पार्टी के नेता बोरिस जॉनसन की सरकार गिर गई है. ब्रेक्सिट को लेकर यूरोपीय संघ के साथ समझौते को संसद से पास ना कराने को लेकर प्रधानमंत्री थेरेसा में के इस्तीफे के बाद ब्रिटेन के नए पीएम बने बोरिस को ब्रेग्जिट पर अपनी ही पार्टी के सांसदों का समर्थन नहीं मिला है. ब्रिटेन की संसद को इस हफ्ते ये फैसला करना है कि वो सरकार को 31 अक्टूबर से पहले नो डील ब्रेग्जिट से रोकेगी या नहीं. ब्रिटिश सांसदों ने ये पाया कि बोरिस जॉनसन आखिरी वक्त पर यूरोपीय यूनियन के साथ डील नहीं कर पाएंगे लिहाजा उनसे समर्थन वापस ले लिया गया.

बोरिस जॉनसन ने कंजर्वेटिव पार्टी के नेताओं को चेतावनी दी थी कि अगर किसी भी सांसद ने उनकी सरकार के खिलाफ वोट किया तो वो उन्हें बाहर निकला दिया जाएगा. उन्होंने इस बात की तरफ भी इशारा किया था कि अगर मंत्रीमंडल नो डील ब्रेग्जिट को रोकने की कोशिश करता है तो वो देश में दोबारा चुनाव का एलान कर देंगे. दरअसल ज्यादातर सांसद नो डील ब्रेग्जिट का ज्यादातर सांसद विरोध कर रहे हैं.

कंजर्वेटिव पार्टी के नेता फिलिप ली ने पार्टी से इस्तीफा देकर लिब्रल डेमोक्रेट्स में शामिल हो गए. खुद लिब्रल डेमोक्रेट्स ने इस बात की घोषणा करते हुए कहा कि हमें खुशी है कि ब्रेकनेल के सांसद फिलिप ली उनकी पार्टी में शामिल हो रहे हैं. पार्टी छोड़ने से पहले बोरिस जॉनसन को लिखी चिट्ठी में ली ने कहा था कि काफी सोच विचार करने के बाद मैं इस नतीजे पर पहुंचा हूं कि अब मैं कंजर्वेटिव पार्टी को अपनी और सेवाएं नहीं दे सकता. देश हित में कंजर्वेटिव पार्टी के साथ रहना मेरे लिए संभवन नहीं है.

Boris Johnson UK next Prime Minister: नौकरी से निकाले गए पत्रकार बोरिस जॉनसन होंगे ब्रिटेन के नए प्रधानमंत्री

Brexit vote : यूरोपियन यूनियन ब्रेक्जिट वोट में ब्रिटिश संसद में पीएम थेरेसा मे हारीं, अब सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App